छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में रहने वाली एक महिला सिर्फ चाय पीकर पिछले 33 वर्षों से जिंदा है. वह न सिर्फ जीवित हैं ब्लकि पूरी तरह से स्वस्थ्य भी है. इस महिला की इस अनूठी शारीरिक विशेषता को देखकर डॉक्टर भी हैरत में है. महिला का नाम पल्ली देवी है. वहीं स्थानीय लोग उन्हें "चाय वाली चाची" के नाम से जानते हैं. पल्ली देवी कोरिया जिले के बैकुन्ठपुर विकासखण्ड के बरदिया गांव में रहती हैं. पल्ली देवी पिछले 33 सालों से सिर्फ चाय पर जिंदा हैं. परिवार के लोगों की मानें तो वह अन्न-जल को मुंह तक नहीं लगाती हैं. 44 वर्ष की महिला पल्ली देवी के पिता रतिराम बताते हैं कि पल्ली जब छठवीं कक्षा में थी, तब से ही उसने भोजन को छोड़ दिया. पिता बताते है कि उन्होंने अचानक ही खाना-पीना त्याग दिया. पहले तो एक दो माह तक उसने बिस्किट, चाय और ब्रेड लिया लेकिन उसके बाद उसने धीरे-धीरे बिस्किट और ब्रेड भी खाना छोड़ दिया. भाई बिहारी लाल रजवाड़े ने बताया कि जब से हमने होश संभाला है, अपनी बहन को इसी तरह देखते आ रहे है. वह दिन ढलने के बाद चाय पीती है. हमारी बहन कोरिया जिले के तरगवा गांव में 1985 में शादी होकर राम रतन के यहां गई थी. पहली बार वापस आने के बाद दोबरा नही गई. पल्ली देवी ने बताया की भूख नहीं लगती है लेकिन दिन ढलने के बाद लाल चाय पीती हूं.