कोरोना महामारी में केस देश में लगातार बढ़ते जा रहे हैं. ऐसे में मध्य प्रदेश के खरगोन जिले के बड़वाह में सुराणा नगर की 100 साल की वृद्ध महिला के आगे कोरोना भी बोना साबित होता नजर आया. 17 जुलाई को रुक्मिणी चौहान के सैंपल लिए गए थे और 21 जुलाई को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. उनकी वर्तमान स्थिति और घर में ही उनका पोता कोरोना को हराकर लौटा था. इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए रुक्मिणी चौहान को घर में आइसोलेट किया गया था.

आपको बता दें कि प्रदेश में एक मात्र यह ऐसा पहला प्रकरण है कि इतनी उम्रदराज महिला होने के बावजूद कोरोना से लड़कर स्वस्थ होना वास्तव में उनके आत्मबल और रोग प्रतिरोधक क्षमता को साबित करता है. रुक्मिणी का कहना है उचित देख रेख और व्यवस्थित दिनचर्या अपना कर कोरोना को पछाड़ा जा सकता है. उनका जज्बा देख हर कोई हैरान है.

रुक्मिणी को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट किया है.

एसडीएम मिलिंद ढोके ने बताया कि 21 जुलाई को उम्रदराज महिला के पॉजिटिव आने के बाद हमारे सामने एक चुनौती थी, क्योंकि उनको अन्य बीमारी भी रही है. उनके घर में डॉक्टरों की निगरानी में प्रतिदिन जांच और प्रत्येक हलचल पर ध्यान रखा गया था. उनके घर के सदस्य भी इस बात को अच्छी तरह जानते थे कि उनके लिए ये परीक्षा की घड़ी है. घर के सदस्यों ने बड़ी हिम्मत दिखाई और हर पल की जानकारी देते रहे. वहीं रुक्मिणी देवी की रोग प्रतिरोधक क्षमता के आगे आखिरकार कोरोना हार गया. आज उनके परिवार के सदस्यों ने राहत की सांस ली और परिवार अपनी पूर्ववत दिनचर्या में लौट आया है.