मध्यप्रदेश में भारी बारिश की वजह से नदियों का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है. नदियों का पानी खतरों के निशान से काफी अधिक हो चुका है. इस वजह से मंगलवार को जबलपुर में रानी अवन्ति बाई लोधी सागर परियोजना बरगी बांध के जलस्तर को नियंत्रित करने के लिए 21 में से 13 स्पिल-वे गेट खोल दिये है.

गेट खोलने के पूर्व विभाग द्वारा तटीय क्षेत्र डिंडोरी, नरसिंहपुर से लेकर खरगोन तक हाई अलर्ट जारी किया गया है. वहीं, प्रशासन ने तटीय क्षेत्र में बसे सभी लोगों को यहां से सुरक्षित स्थान पर स्थानांतरित कर दिया है.

सभी 13 गेट औसतन 1.80 की ऊंचाई तक खोले जायेंगे. वहीं, गेट खुलने के बाद करीब 1 लाख 21 हजार 660 क्यूसेक पानी छोड़ा जाएगा.

इसके अलावा यहां स्थित जल विद्युत उत्पादन इकाइयों से भी 7063 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है. बांध के गेट खोलते समय इसका जल स्तर 421.60 मीटर रिकार्ड किया गया था. कार्यपालन यंत्री बरगी बांध अजय सूरे के अनुसार बांध में बर्षा जल की आवक को देखते हुये जल निकासी की मात्रा को कभी भी घटाया या बढ़ाया भी जा सकता है.

रानी अवन्ति बाई लोधी सागर परियोजना के अधीक्षण यंत्री डी एस ठाकुर ने बांध के निचले क्षेत्र के रहवासियों से सतर्क रहने तथा घाटों या डूबे क्षेत्र से सुरक्षित दूरी बनाये रखने के निर्देश दिये हैं.