अमेरिका के इतिहास में 11 सितंबर की तारीख एक काले दिन के नाम से जाना जाता है. हालांकि, ये सिर्फ अमेरिका के लिए ही नहीं पूरी दुनिया के लिए काला दिन था. 9/11 आतंकी अटैक में करीब तीन हजार लोगों की मौत हुई थी. इसमें न केवल अमेरिका बल्कि दुनिया के कई देशों के नागरिक इस हमले में मारे गए थे. इस हमले को 20 साल यानी दो दशक बीत गए हैं. लेकिन इसकी पीड़ा आज भी उन लोगों के दिल में ताजा है जो इस हमले के साक्षी हैं. इस हमले ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया था.

11 सितंबर 2001 के दिन अलकायदा आतंकी संगठन ने इस हमले को अंजाम देकर सभी को चौका दिया था. आतंकियों ने चार प्लेन हाईजैक किए थे और इनका मकसद था अमेरिका के बड़े इमारतों पर हमला करना. इसकी प्लानिंग पहले से की गई थी. दो प्लेन न्यूयॉर्क की ओर गए एक वाशिंगटन डीसी और एक पेन्सिलवेनिया की ओर गया था.

यह भी पढ़ेंः 9/11 आतंकी हमलाः 19 साल पहले दहशतगर्दों ने वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को कर दिया था धराशायी, 3000 लोगों की गई थी जान

दो प्लेन को न्यूयॉर्क स्थित वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के ट्विन टावरों से टकरा दिया. वहीं, एक प्लेन को वाशिंगटन डीसी के पेंटागन बिल्डिंग से टकरा दिया गया जबकि चौथा प्लेन पेन्सिलवेनिया के एक खेत में क्रैश कर दिया गया. हजारों लोग इस हमले में मारे गए. वर्ल्ड ट्रेंड सेंटर का ट्विन टावर हमले के बाद ताश की पत्तों की तरह ढह गई.

लेकिन 20 साल बाद जिस स्थान पर ये घटना हुई थी. अब वहां का नक्शा बिलकुल ही बदल गया है. इस स्थान पर हर साल 11 सितंबर को अपनों को खोने वाले लोग श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं.

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर दुनिया की सबसे ऊंची इमारतों में से एक था ये 110 मंजिला बिल्डिंग थी जो 1973 में बनकर तैयार हुई थी. इसे ढहने में केवल दो घंटे लगे थे. पहले इस जगह पर फिर से निर्माण की घोषणा की गई थी. जब यहां फिर से निर्माण की बातें होने लगी तो कई योजनाओं पर काम हुआ. अंत में यहां एक स्मारक, संग्रहालय के साथ-साथ पांच गगनचुंबी इमारतों को बनाना तय हुआ. इसमें स्मारक पूरी तरह से बन कर तैयार है और उसे 2011 में हमले के दस साल पूरे होने पर खोल दिया गया. इस स्मारक में हमले में मारे गए लोगों के नाम लिखे गए हैं.

यह भी पढ़ेंः 9/11 अटैक: क्या इस तरह ओसामा बिन लादेन को आया था इमारत से प्लेन टकराने का आइडिया?

अमेरिकी स्टूडियो डेविस ब्रॉडी बॉन्ड द्वारा डिजाइन किए गए एक भूमिगत संग्रहालय में 40,000 फोटो और 14,000 कलाकृतियां हैं. स्मारक और संग्रहालय दोनों प्रतिदिन सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक खुले रहते हैं. हालांकि, यह 20वीं वर्षगांठ पर आधी रात तक खुला रहेगा.

पेंटागन और पेन्सिलवेनिया में भी जहां हमला किया गया था वहां स्मारक बनाए गए हैं.

यह भी पढ़ेंः 9/11 आतंकी हमलाः 19 साल पहले दहशतगर्दों ने वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को कर दिया था धराशायी, 3000 लोगों की गई थी जान