अमेरिका के न्यूयॉर्क में 11 सितंबर 2001 को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर कुछ आतंकियों द्वारा हमला हुआ था. इस हमले को पूरे 19 साल हो गए हैं. आतंकी संगठन अलकायदा ने प्लेन को हाइजैक कर मिसाइल की तरह इस्तेमाल कर इस आतंकी हमले को अंजाम दिया था.

इस हमले में करीब तीन हजार लोगों की मौत हो गई थी और इस हमले के पीछे दुनिया के खूंखार आतंकी अलकायदा चीफ ओसामा बिन लादेन का दिमाग बताया गया था.

ऐसे आया था ओसामा बिन लादेन को आइडिया?

'द यरूशलेम पोस्ट' में छपी एक खबर के मुताबिक, साल 1999 में गामिल अल-बतौती नाम के पायलट ने इजिप्ट एयर के विमान को समुद्र में गिरा दिया गया था. ये विमान लॉस एंजिलिस से काहिरा जा रहा था, हादसे के समय विमान में करीब 217 यात्री सवार थे. इसमें सभी यात्रियों की मृत्यु हो गई थी जिनमें से 100 यात्री अमेरिकी नागरिक थे. लादेन ने जब वो खबर सुनी तो उसने भी प्लेन को इमारत से क्रैश कराने की ऐसी ही योजना बनाई. इस खबर की पुष्टि हम नहीं करते लेकिन ये दावा किया जाता है कि ओसामा को इस हमले का आइडिया यहीं से मिला.

'द यरूशलेम पोस्ट' में छपी खबर के मुताबिक, लादेन ने इसके बारे में योजना बनाना शुरू कर दिया और इस घटना के दो सालों के बाद अमेरिका में सबसे बड़ा आतंकी हमला कर दिया.

गामिल के बारे में अलकायदा की साप्ताहिक मैग्ज़ीन 'अल-मसरह' में छपा. 59 साल के गामिल अनुभवी पायलट थे, और इन्होंने 31 अक्टूबर, 1999 को इजिप्टएयर की फ्लाइट लेकर लॉस एंजेलिस से काहिरा के लिए उड़ान भरी थी. शुरू में इस विमान के गिरने को आतंकी साजिश माना गया लेकिन बाद में खुलासा हुआ कि कंपनी से नाराज़ होकर गामिल ने विमान को समुद्र में गिरा दिया था. उस समय गामिल के खिलाफ जांच हुई तो पता चला कि उसके फ्लाइट चलाने पर प्रतिबंध लगने वाला था.

आपको बता दें कि 9/11 हमले को अंजाम देने के लिए अलकायदा के आतंकियों ने 4 विमानों को हाईजैक किया और दो विमानों को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर गिरा दिया था. तीसरे विमान को पेंटागन में और चौथे विमान को मैदान में गिराया था.