उन्नाव (उत्तर प्रदेश) 23 मई (भाषा) उन्नाव जिले में घर के बाहर सब्जी बेच रहे एक किशोर की कोरोना कर्फ्यू के उल्लंघन के आरोप में पीट-पीटकर हत्या करने के आरोपी एक पुलिसकर्मी को रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस सूत्रों ने यह जानकारी दी।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि सब्जी विक्रेता फैसल (17) की हत्या के मामले के आरोपी होमगार्ड जवान सत्य प्रकाश को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, दो अन्य अभियुक्तों आरक्षी विजय चौधरी और सीमावत की तलाश की जा रही है।

उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में फैसल की मौत का कारण सिर में चोट लगना बताया गया है।

गौरतलब है कि शुक्रवार शाम उन्नाव जिले के बांगरमऊ कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत कस्बे के मोहल्ला भटपुरी इलाके में फैसल घर के बाहर सब्जी बेच रहा था। आरोप के अनुसार कस्बा चौकी पुलिस के सिपाही विजय चौधरी और सीमावत तथा होमगार्ड जवान सत्य प्रकाश ने किशोर को पकड़ लिया और कोरोना कफर्यू के उल्लंघन का आरोप लगाकर उसे डंडे से पीटते हुए थाने ले गए, जहां किशोर की मौत हो गई।

इस मामले में आरोपी तीनों पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। उनमें से दोनों सिपाहियों को निलंबित तथा होमगार्ड जवान को बर्खास्त कर दिया गया है। कोतवाल जितेंद्र सिंह मामले की जांच कर रहे हैं।

इस बीच, सपा के स्थानीय नेता व अधिवक्ता संजीव त्रिवेदी ने मामले की मजिस्ट्रियल जांच की मांग करते हुए आरोप लगाया कि इस मामले की जांच उस कोतवाल को दी गई है जिसके सामने आरोपी पुलिसकर्मियों और होमगार्ड जवान ने नाबालिग सब्जी विक्रेता को पीट-पीट कर मार डाला। उन्होंने आरोप लगाया कि इस दौरान कोतवाल ने उन्हें नहीं रोका।

उन्होंने आरोप लगाया कि इससे जाहिर होता है कि वारदात में कोतवाल जितेंद्र सिंह की भी बराबर की सहमति थी, लिहाजा उनके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए। उन्होंने दावा किया कि आरोपी कोतवाल के रहते मामले की निष्पक्ष जांच मुमकिन नहीं है।

भाषा सं सलीम नेत्रपाल प्रशांत

प्रशांत