ताशकंद, 26 मई (भाषा) भारतीय भारोत्तोलक अचिंता श्युली ने तीनों वर्ग में अपना निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए बुधवार को यहां जूनियर विश्व चैंपियनशिप के 73 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीता।

उन्नीस साल के श्युली ने इस स्वर्ण स्तर की ओलंपिक क्वालीफायर प्रतियोगिता में स्नैच में 141 किग्रा और क्लीन एवं जर्क में 172 किग्रा वजन के साथ कुल 313 किग्रा वजन उठाया।

राष्ट्रमंडल चैंपयिनशिप के स्वर्ण पदक विजेता श्युली ने स्नैच और क्लीन एवं जर्क दोनों में अपने निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में दो-दो किग्रा का सुधार किया। उन्होंने पिछले महीने यहां एशियाई चैंपियनशिप में 309 किग्रा (139 किग्रा +170 किग्रा) वजन उठाया था।

इंडोनेशिया के जूनियनशाह रिज्की ने शानदार प्रदर्शन करते हुए तीन वर्गों में जूनियर विश्व रिकॉर्ड बनाकर स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने कुल 349 किग्रा (155 किग्रा+194 किग्रा) वजन उठाया। रूस के सेरोबियान गेवोर्ग ने 308 किग्रा (143 किग्रा+165 किग्रा) वजन उठाकर कांस्य पदक जीता।

श्युली ने स्नैच में अपने पहले प्रयास में 137 किग्रा वजन आसानी से उठाया लेकिन दूसरे प्रयास में 141 किग्रा वजन उठाने से चूक गए। उन्होंने हालांकि तीसरे और अंतिम प्रयास में 141 किग्रा वजन उठाकर इस वर्ग का कांस्य पदक जीता।

महाद्वीपीय और विश्व चैंपियनशिप में स्नैच और क्लीन एवं जर्क तथा कुल वजन के आधार पर अलग अलग पदक दिए जाते हैं। ओलंपिक में हालांकि कुल वजन के आधार पर एक पदक मिलता है।

मंगलवार को युवा ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता जेरेमी लालरिनुंगा 67 किग्रा वर्ग में चौथे स्थान पर रहे थे। उन्होंने स्नैच वर्ग में रजत पदक जीता था।

भाषा सुधीर आनन्द

आनन्द