अफगानिस्तान पर तालिबान ने कब्जा किए हुए करीब 10 दिन हो गए हैं. इसके बाद अब तालिबान (Taliban) ने अपनी सरकार बनाने की तैयारियां भी तेज कर दी है. तालिबान ने अंतरिम रक्षा मंत्री और गृह मंत्री नियुक्त कर दिए हैं. तालिबान ने एक खूंखार आतंकवादी मुल्ला अब्दुल कय्यूम जाकिर (Mullah Abdul Qayyum Zakir) को अफगानिस्तान का अंतरिम रक्षा मंत्री बनाने का फैसला किया है. सरकार के गठन से पहले अफगानिस्तान को चलाने के लिए तालिबान अलग-अलग विभागों के प्रमुख नियुक्त कर रहा है.

यह भी पढ़ें: क्या है पंजशीर? अफगानिस्तान में तालिबान के खिलाफ खड़ी इकलौती ताकत

क़तर स्थित 'अल जज़ीरा' समाचार चैनल के अनुसार अब्दुल कय्यूम जाकिर को तालीबान का एक अनुभवी तालिबानी कमांडर माना जाता है और तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर का भी करीबी है. रॉयटर्स के अनुसार, अमेरिका में हुए 9/11 आतंकी हमले के दौरान वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमला करने के लिए अमेरिका ने साल 2001 में अब्दुल कय्यूम जाकिर को गिरफ्तार कर लिया था. इसके बाद करीब 6 साल तक यानी 2007 तक क्यूबा में मौजूद ग्वांतानामो बे की जेल में बंदी बनाकर रखा गया था. बता दें कि इस जेल में हाई-प्रोफाइल आतंकवादियों को ही कैद में रखा जाता है. जिसके बाद अमेरिका ने अब्दुल कय्यूम जाकिर को रिहा करके अफगानिस्तान को सौंप दिया. मुल्ला अब्दुल की तालिबान के कुछ सबसे खूंखार आतंकियों में से एक है.

यह भी पढ़ें: अफगानिस्तान में तालिबान संकट: पीएम मोदी ने व्लादिमीर पुतिन से फोन पर लंबी बात की

फिलहाल अफगानिस्तान में औपचारिक तौर पर कोई सरकार नहीं है. हालांकि, अफगानिस्तान पर राज करने के लिए तालिबान ने महत्वपूर्ण पदों पर अपने साथियों की नियुक्ति करना शुरू कर दिया है. जिसके चलते हाजी मोहम्मद इदरीस (Haji Mohammad Idris) को देश के केंद्रीय बैंक 'द अफगानिस्तान बैंक' (डीएबी) के कार्यकारी प्रमुख के तौर पर नियुक्त किया है. इसके साथ ही अफगानिस्तान की समाचार एजेंसी पाझजोक (Pajhwok) के अनुसार तालिबान ने गुल आगा (Gul Agha) को कार्यवाहक वित्त मंत्री और सदर इब्राहिम (Sadr Ibrahim) को कार्यवाहक आंतरिक मंत्री के तौर पर नियुक्त किया है. 

यह भी पढ़ें: CIA डायरेक्टर बर्न्स ने तालिबान नेता मुल्ला बरादर से खुफिया मुलाकात की: रिपोर्ट