दिल्ली-एनसीआर में मेट्रो सेवाएं पांच महीने की अवधि के बाद 7 सितंबर को फिर से शुरू हुई. लेकिन गुड़गांव-नोएडा और द्वारका-नजफगढ़ को जोड़ने वाली मैजेंटा लाइन और ग्रे लाइन ने शुक्रवार (11 सितंबर) को 173 दिनों तक कोविड-19 के कारण बंद रहने के बाद फिर से परिचालन शुरू किया. अधिकारीयों ने इस बात की जानकारी दी. 

दिल्ली मेट्रो को श्रेणीबद्ध तरीके से खोलने के दूसरे चरण के तहत शुक्रवार सुबह 7 बजे से इन दो मेट्रो लाइन्स पर सेवा शुरू हुई. कोरोना वायरस से बचाव के लिए 22 मार्च को मेट्रो सेवाएं बंद हुई थीं. 

टाइमिंग का रखें ख्याल

मेट्रो को खोले जाने के इस चरण में ट्रेनें छह-छह घंटे के दो बैच में चलेंगी. पहले सुबह 7 बजे से लेकर दोपहर एक बजे तक और उसके बाद शाम चार बजे से लेकर रात 10 बजे तक. पहले चरण के तहत 7 सितंबर को शुरू हुई मेट्रो सेवाएं भी अब दूसरे चरण के टाइम के हिसाब से ही चलेंगी. 

7 सितंबर को येलो और रैपिड मेट्रो शुरू हुई थी, इसके बाद 9 सितंबर से ब्लू लाइन और पिंक लाइन मेट्रो सेवाएं चालू कर दी गई थीं. 10 सितंबर को रेड लाइन, वॉयलेट लाइन और ग्रीन लाइन की भी सेवाएं शुरू कर दी गई थीं. 

यात्रिओं को इन बातों का भी रखना होगा ख्याल 

दिल्ली मेट्रो ने एक वीडियो जारी करके यात्रियों से अपील की थी कि ट्रैवल मास्क पहनकर ही करें. ट्रैवल से पहले सैनेटाइज करें, इसके लिए मेट्रो ने इंतजाम किया है. टोकन का प्रयोग नहीं होगा, सिर्फ डिजिटल ट्रांजेक्शन के जरिए ये सफर किया जाएगा. इसके साथ ही कहा गया है कि यदि तबीयत खराब हो तो सफर न करें. मेट्रो में कहीं भी हों एक-दूसरे से पर्याप्त दूरी बनाकर रखें.