एयर इंडिया (Air India) के पायलट संगठनों IPG और ICPA ने सोमवार को वेतन कटौती के मुद्दे पर नागर विमानन मंत्रालय से हस्तक्षेप की मांग की और विभिन्न अन्य मुद्दों पर चर्चा के लिए उनके साथ ‘‘तत्काल’’ बैठक के लिए अनुरोध किया.

पायलट संगठनों ने नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी को भेजे एक पत्र में कहा, ‘‘सितंबर में हमारी बैठकों में आपने हमारी शिकायतों को सकारात्मक रूप से विचार करने का भरोसा दिया था. अब अन्य विमानन कंपनियां अपने पायलटों के वेतन में कटौती वापस ले रही हैं, जबकि एयर इंडिया के पायलटों के लिए वेतन में कटौती अक्टूबर से और बढ़ गई.’’

उन्होंने संयुक्त पत्र में कहा, ‘‘यह बाजार की वास्तविकता से पूरी तरह अलग है और साथ ही एयर इंडिया और इसकी सहायक कंपनियों के पायलटों के साथ ऐसा करना अनुचित है.’’

पत्र में कहा गया कि एयर इंडिया और इसकी दो सहायक विमानन कंपनियों एयर इंडिया एक्सप्रेस और एलायंस एयर के पायलटों को लगातार घटा हुआ वेतन मिल रहा है, जो उनके सामान्य वेतन से 70 प्रतिशत तक कम है.

पत्र में आगे कहा गया, ‘‘हमने आपको बताया है कि लागत कटौती के लिए एयर इंडिया प्रबंधन की कवायद किस तरह दुर्भावनापूर्ण और अनुचित है, और विमानन उद्योग के मानकों से इसका कोई संबंध नहीं.’’