साल 2016 में मोदी सरकार ने हजार और पांच सौ के नोट बंद करने का ऐलान किया था, जिसके बाद देश में काफी हंगामा हुआ था. विपक्ष नेताओं ने मोदी सरकार पर वार करने का कोई मौका नहीं छोड़ा और अब इस बात को 4 साल हो गए हैं. अखिलेश यादव ने एक बार फिर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इन सालों में ना कालाधन वापस आया और ना भ्रष्टाचार कम हुआ.

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नोटबंदी की चौथी सालगिरह पर केंद्र सरकार के इस कदम पर तंज कसा. अखिलेश ने रविवार को ट्वीट किया 'नोटबंदी के चार साल, नक़ली नोट हैं बरक़रार, बढ़ा घोटाला-भ्रष्टाचार, काला लेनदेन बेहिसाब, न कालाधन का हिसाब, न खाते में ‘पंद्रह लाख’, जनता देगी इन्हें जवाब.'

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी का ऐलान करते हुये 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट को चलन से बाहर कर दिया था. इसके बाद देश में उपजे हालात को लेकर विपक्षी दलों ने सरकार पर जमकर निशाना साधा था.

सपा अध्यक्ष ने नोटबंदी की घोषणा के बाद बैंक की लाइन में जन्मे एक बच्चे का नाम खजांची रखा था. अखिलेश ने रविवार को किए गए ट्वीट में उसकी तस्वीर भी टैग की है.