9 मई को Mother's Day देशभर में मनाया जा रहा है. इस दिन लोग अपनी मां के लिए खास तरीके पार्टी करते हैं और उनके प्रति अपने प्यार को दर्शाते हैं. वैसे तो दुनियाभर की मां अपने बच्चों से प्यार करती हैं लेकिन भारत में मां अपने बच्चों को अलग ही तरह का प्यार करती हैं. यहां हम आपको कुछ 5 डायलॉग्स के बारे में बताएंगे जो हर दूसरी मां ने अपने बच्चों पर यह अप्लाई किया होगा.

यह भी पढ़ें- कर्नाटक और गोवा में 10 मई से 14 दिन का लॉकडाउन, जानें गाइडलाइंस

यह भी पढ़ें- केरल में 16 मई तक संपूर्णं लॉकडाउन, जानें सरकार ने क्या दी छूट

हर मां के 5 फेवरेट डायलॉग्स

'सारा दिन फोन पर'- जब भी मां बच्चों के हाथ में फोन देखती हैं तो हर मां का रिएक्शन एक ही होता है कि सारा दिन फोन पर ध्यान रहता है तो ये काम कैसे हो सकता है. लॉकडाउन में ऐसी चीजों का सामना ज्यादातर बच्चों ने किया होगा.

मदर्स डे डायलॉग्स

'समय क्या है?'- जब भी आप अपने दोस्तों के साथ मस्ती करके आएं या देर तक सोते रहें, हर मां ये जरूरी बोलती हैं कि समय क्या है, देखा है कभी. इतने समय ये नहीं करना या उतने समय ये नहीं करना चाहिए.

मदर्स डे डायलॉग्स

'तोड़ दे सब'- अगर गलती से कुछ गिर जाता है तो मां यही कहती हैं कि तोड़ दो सबकुछ, भले ही वो देख रही हैं कि गलती से गिरा है लेकिन अक्सर वे ऐसा ही बोलती हैं.

मदर्स डे डायलॉग्स

'हमारे जमाने में'- हर मां का एक यह डायलॉग रहता है कि हमारे जमाने में ऐसा होता है या हमारे जमाने में वैसा होता था. तुम्हारी उम्र में मैं ये कर चुकी थी या तुम्हारी उम्र में हमारी शादी हो गई थी. ये ताने हर बच्चे को सुनने को मिले होंगे.

मदर्स डे पर डायलॉग्स.

'उसके बेटे या बेटी को देखो'- अक्सर मां यही कहती हैं कि शर्मा जी के बेटे को देखो नौकरी पा लिया है और तुम घर में नकारे बैठे हो. या कहती हैं कि शर्मा जी की बेटी को देखो घर का सारा काम कर लेती है. पता नहीं भारतीय मां ऐसा ऐसे सोच लेती हैं.

यह भी पढ़ें- देश के 13 राज्यों के कोरोना के नए केस का आकड़ां, डरावनी है मौत की संख्या

यह भी पढ़ें- DRDO की 2-DG कोरोना की दवा को DCGI की मिली मंजूरी, जानें इसके बारे में सब कुछ

यह भी पढ़ेंः बिहार में सरकार ने तय किया CT-SCAN का शुल्क, जानें क्या है रेट