नयी दिल्ली, 19 अप्रैल (भाषा) लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सोमवार को कहा कि कोरोना के साथ लड़ाई में निजी सावधानी ही सबसे बड़ा हथियार है और कोई भी लापरवाही अत्यंत खतरनाक सिद्ध हो सकती है । उन्होंने ग्राम पंचायतों एवं शहरी क्षेत्रों के स्थानीय निकायों सहित सभी लोकतांत्रिक संस्थाओं को सामूहिक रूप से कोरोना वायरस संक्रमण को कम करने के लिए जनता के बीच में रहकर व्यापक प्रयास करने की अपील की ।

लोकसभा अध्यक्ष ने ‘‘कोविड-19 की वर्तमान स्थिति-जनप्रतिनिधियों की भूमिका और दायित्व’’ विषय पर आज भारत के विधायी निकायों के पीठासीन अधिकारियों और अन्य नेताओं के साथ डिजिटल बैठक में यह बात कही ।

लोकसभा सचिवालय के बयान के अनुसार, बिरला ने कहा, ‘‘कोविड-19 के संकट के एक वर्ष से भी अधिक समय के बाद आज यह महामारी पुनः नए रूप में नई चुनौतियों के साथ हमारे सामने आयी है तथा कोरोना संक्रमण का यह नया रूप पिछले वर्ष की तुलना में और अधिक तेजी से फैल रहा है जो हम सबके लिए गम्भीर चिंता का विषय है।’’

उन्होंने कहा कि सरकारें अपने स्तर पर सभी आवश्यक प्रयास कर रही हैं लेकिन संकट की इस घड़ी में विधायिका को भी और अधिक तत्परता से अपना कर्तव्य निभाना है।

उन्होने जनप्रतिनिधियों का आह्वान किया कि वे सभी पूरी एकजुटता और सामूहिकता की भावना से अपने कर्तव्यों का पालन करें तथा समाज और देश को इस आपदा से शीघ्र मुक्ति दिलाने में अपना योगदान दें।

बिरला ने पीठासीन अधिकारियों से आग्रह किया कि वह कोरोना के संबंध में जागरूकता और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराने के लिए अपने-अपने राज्यों के जनप्रतिनिधियों के माध्यम से जनता में आवश्यक संदेश पहुंचाने का प्रयास करे।

उन्होंने जनप्रतिनिधियों से जनता के बीच यह सन्देश देने को कहा कि कोरोना के साथ लड़ाई में निजी सावधानी ही सबसे बड़ा हथियार है और इस बारे में कोई भी लापरवाही अत्यंत खतरनाक सिद्ध हो सकती है।

इस विषय पर लोकसभा ने कुछ सुझाव भी दिये और कहा कि महामारी के नियंत्रण के लिए जनप्रतिनिधि सामाजिक संगठनों की सहायता ले सकते हैं।

उन्होंने सुझाव दिया कि ग्राम पंचायतों एवं शहरी क्षेत्रों के स्थानीय निकायों सहित लोकतांत्रिक संस्थाओं को सामूहिक रूप से कोरोना संक्रमण को कम करने के लिए जनता के बीच में रहकर व्यापक प्रयास करने हेतु प्रेरित किया जाये।

लोकसभा अध्यक्ष ने कहा किपीठासीन अधिकारीगण अपने-अपने राज्यों के विधान मण्डलों में कंट्रोल रूम स्थापित करें, जो सभी जनप्रतिनिधियों से जुड़े रहे। इसके माध्यम से प्राप्त सूचनाएं एवं जनता की कठिनाइयों को सरकार तक पहुंचाने का काम करें।

उन्होंने कहा कि केन्द्र से संबंधित कोई विषय हो, तो वह लोक सभा कंट्रोल रूम तक पहुंचाएं।

बिरला ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि देश भर में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए अब तक 12 करोड़ से भी अधिक लोगों को टीका लगाया जा चुका है। उन्होंने टीकाकरण कार्यक्रम में और तेजी लाने की जरूरत बतायी ।

भाषा दीपक दीपक माधव

माधव