नयी दिल्ली, 25 मई (भाषा) सार्वजनिक क्षेत्र की कोल इंडिया लि. (सीआईएल) के कोयले का बिजली क्षेत्र को विशेष ई-नीलामी के जरिये आबंटन पिछले महीने 27.9 प्रतिशत घटकर 21.9 लाख टन रहा।

मंत्रिमंडल के लिये तैयार कोयला मंत्रालय की संक्षिप्त रिपोर्ट के अनुसार कोल इंडिया ने पिछले साल अप्रैल में 30.4 लाख टन कोने की आपूर्ति की थी।

हालांकि योजना के तहत सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम द्वारा कोयले का आबंटन 2020-21 में बढ़कर 3.933 करोड़ टन रहा जो इससे पूर्व वित्त वर्ष 2019-20 में 2.712 करोड़ टन था।

ई-नीलामी (फारवर्ड ई-नीलामी) के जरिये कोयले के वितरण का मकसद ऐसे ग्राहकों तक ईंधन की आपूर्ति सुनिश्चित करनी है जो लंबी अवधि तक आपूर्ति को लेकर निश्चिंत होना चाहते हैं ताकि वे इसके आधार पर अपने संयंत्र के परिचालन की योजना बना सके।

इस योजना का मकसद देश में सभी कोयला ग्राहकों को उनकी रूचि और सुविधा के अनुसार ‘ऑनलाइन बुकिंग’ के माध्यम से समान आधार पर ईंधन उपलब्ध कराना है। इसके जरिये वे सुगम, पारदर्शी और उपभोक्त अनुकूल व्यवस्था के जरिये कोयले की खरीद कर सकते हैं।

भाषा

रमण मनोहर

मनोहर