ऐ ईमान लानेवालो! अल्लाह के लिए गवाही देते हुए इन्साफ़ पर मज़बूती के साथ जमे रहो, चाहे वह स्वयं तुम्हारे अपने या मां-बाप और नातेदारों के विरुद्ध ही क्यों न हो। कोई धनवान हो या निर्धन (जिसके विरुद्ध तुम्हें गवाही देनी पड़े) अल्लाह को उनसे (तुमसे कहीं बढ़कर) निकटता का संबंध है, तो तुम अपनी इच्छा के अनुपालन में न्याय से न हटो, क्योंकि यदि तुम हेर-फेर करोगे या कतराओगे, तो जो कुछ तुम करते हो, अल्लाह को उसकी ख़बर रहेगी।

.. पवित्र क़ुरआन 4/135 ..

ओ ईमान ल्याणियो! इंसाफ कै सागै खड़्या रहके अल्लाह कले गवाह बण ज्याओ, चाये गवाही थारै आपकै या मां-बाप और रिस्तेदारां कै खिलाफ होवै। चाये कोई अमीर या गरीब होवै, तो अल्लाह थारै सैं बेसी बां दोन्यां को खैरखाह (भलाई चाणियो) है। ई'लिये थारै मन की कामनां कले इंसाफ सैं मतां डिगो। जे थे बात घुमा-फिराके करोगा या गवाही देणा सैं कतराओगा, तो बेसक अल्लाह नै बीको बेरो है, जको थे करो हो।

.. पवित्र क़ुरआन 4/135 ..

मारवाड़ी अनुवाद: राजीव शर्मा

जरूर पढ़ें: एक गुनहगार की दुआ कबूल हो सकती है, पाखंडी की नहीं

O you who have believed, be persistently standing firm in justice, witnesses for Allah, even if it be against yourselves or parents and relatives. Whether one is rich or poor, Allah is more worthy of both. So follow not [personal] inclination, lest you not be just. And if you distort [your testimony] or refuse [to give it], then indeed Allah is ever, of what you do, Aware.

.. The Holy Quran 4/135 ..

اے ایمان والو! انصاف پر قائم رہو اور خدا کے لئے سچی گواہی دو خواہ (اس میں) تمہارا یا تمہارےماں باپ اور رشتہ داروں کا نقصان ہی ہو۔ اگر کوئی امیر ہے یا فقیر تو خدا ان کا خیر خواہ ہے۔ تو تم خواہش نفس کے پیچھے چل کر عدل کو نہ چھوڑ دینا۔ اگر تم پیچیدا شہادت دو گے یا (شہادت سے) بچنا چاہو گے تو (جان رکھو) خدا تمہارے سب کاموں سے واقف ہے

.. 4/135 قرآن مجید ..

जरूर पढ़ें: क़ुरआन के इस एक शब्द में छिपी हैं अनगिनत कामयाबियां, फिर हम आगे क्यों नहीं बढ़ सके?

(अच्छी बातें पढ़ने के लिए इस वेबसाइट पर अपना अकाउंट बनाइए और मुझे फॉलो कीजिए)

मेरे साथ फेसबुक, वॉट्सऐप, इंस्टाग्राम आदि पर जुड़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए  

#Allah #God #Quran #TheHolyQuran #QuranInHindi #QuranInMarwari #MarwariQuran #QuranMarwariTranslation #RajeevSharma #RajeevSharmaKolsiya #WriterRajeevSharma