अमेजन प्राइम वीडियो पर प्रसारित वेब सीरीज ‘तांडव’ के निर्माताओं ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने इस पर उठे विवाद के बाद लोगों की चिंताओं को दूर करने के लिए बदलाव करने का फैसला किया है. शो के निर्माताओं ने इसके बहिष्कार की बढ़ती मांग, देश के अनेक हिस्सों में इसके खिलाफ दर्ज प्राथमिकियों तथा पुतले जलाये जाने की घटनाओं के बीच यह फैसला किया.

इस बीच , कई नेताओं ने ओटीटी प्लेटफॉर्म पर करीब से निगरानी की जरूरत बताई है. ‘तांडव’ के खिलाफ आज देशभर में कई जगहों पर प्रदर्शन हुए और शो के निर्देशक अली अब्बास जफर समेत अन्य के पुतले जलाये गये.

दो दिन के भीतर दूसरी बार अपने माफीनामे में शो की टीम ने इस विषय पर मार्गदर्शन तथा समर्थन के लिए सूचना और प्रसारण मंत्रालय का आभार भी जताया. निर्माताओं ने एक बयान में कहा, ‘‘तांडव की कास्ट और क्रू ने वेब सीरीज को लेकर जताई गयी चिंताओं पर ध्यान देने के लिए इसमें बदलाव करने का फैसला किया है.’’

अली अब्बास जफर द्वारा निर्देशित और सैफ अली खान, डिंपल कपाड़िया और मोहम्मद जीशान अय्यूब अभिनीत ‘तांडव’ का प्रसारण पिछले सप्ताह शुरू हुआ लेकिन इसमें हिंदू देवी देवताओं के चित्रण को लेकर विवाद शुरू हो गया.

इसमें विवाद के केंद्र में एक दृश्य है जिसमें कॉलेज छात्र शिवा का किरदार अदा कर रहे अय्यूब को एक मंच पर भगवान महादेव का अभिनय करते हुए दिखाया गया है. इस शो की टीम ने एक आधिकारिक वक्तव्य में दोहराया कि उनका किसी की भावनाओं को आहत करने का कोई इरादा नहीं था.

बयान में कहा गया, ‘‘हम देशवासियों की भावनाओं का बहुत सम्मान करते हैं. हमारी किसी व्यक्ति, जाति, समुदाय की धार्मिक भावनाओं या धार्मिक आस्थाओं को आहत करने या किसी संस्था, राजनीतिक दल या व्यक्ति (जीवित अथवा मृत) को अपमानित करने का कोई इरादा नहीं था.’’

बयान में कहा गया, ‘‘अगर सीरीज से किसी व्यक्ति की भावनाएं गैर-इरादतन आहत हुई हैं तो हम एक बार फिर माफी मांगते हैं.’’ शो निर्माताओं ने सोमवार को भी इस संबंध में खेद जताया था.