महाराष्ट्र में इन दिनों काफी सियासी हलचल मची हुई है. पूर्व मुंबई कमिश्नर परमबीर सिंह के आरोपों के बाद राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग लगातार की जा रही है. हालांकि, NCP की ओर से साफ कर दिया गया है कि अनिल देशमुख से इस्तीफा नहीं लिया जाएगा. वहीं, देशमुख लगातार परमबीर सिंह के आरोपों से इनकार कर रहे हैं.

इसके साथ ही अनिल देशमुख ने सीएम उद्धव ठाकरे से इस मामले की जांच कराने की मांग की है. अनिल देशमुख ने इसके लिए सीएम को एक पत्र लिखा है.

यह भी पढ़ेंः आमिर खान की कोविड-19 रिपोर्ट आई पॉजिटिव, खुद को किया घर में क्वारंटीन

पत्र को ट्वीट करते हुए अनिल देशमुख ने लिखा है, 'परमबीर सिंह द्वारा मुझपर लगाए गए आरापों की जांच करवाकर 'दूध का दूध, पानी का पानी' करने कि मांग मैंने माननीय मुख्यमंत्री महोदय से करी थी. अगर वे जांच के आदेश देते हैं तो मै उसका स्वागत करूंगा'.

यह भी पढ़ें: अगर आपने लोन लिया है तो जान लें सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला, लाखों कर्जधारक को झटका

क्या है पूरा मामला

दरअसल, मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास विस्फोटक से भरी गाड़ी मिलने के बाद जांच में मुंबई पुलिस के अधिकारी सचिन वाजे का नाम आया और उसकी गिरफ्तारी हुई. वहीं, मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद से परमबीर सिंह को हटा दिया गया और होमगार्ड की जिम्मेदारी दे दी गई. इसके बाद परमबीर सिंह ने सीएम उद्धव ठाकरे को एक पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाजे को 100 करोड़ रुपये वसूलने का टार्गेट दिया था. इसके बाद से प्रदेश में सियासी तुफान मचा हुआ है.

इन आरोपों के बाद विपक्ष गृह मंत्री की इस्तीफे की मांग करने लगे. हालांकि, उनके इस्तीफे पर NCP ने साफ किया कि देशमुख इस्तीफा नहीं देंगे. जांच में जो दोषी पाया जाएगा उन्हें सजा दी जाएगी.

  यह भी पढ़ेंः सस्ते LPG कनेक्शन के लिए सरकार कर रही है ये प्लान!