मुंबई पुलिस के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने आरोप लगाया है कि गृह मंत्री ने सचिन वाजे को हर महीने 100 करोड़ रुपये जुटाने का टारगेट दिया था. अब इस आरोप एक ओर सियासत शुरू हो गई है तो वहीं, अनिल देशमुख लगातार आरोपों से इनकार कर रहे हैं.

अनिल देशमुख ने कहा है कि, परमबीर सिंह द्वारा मेरे ऊपर लगाए गए आरोप झूठे हैं और मुझे बदनाम करने और महागठबंधन सरकार को बदनाम करने की साजिश है. सचिन वाजे की गिरफ्तारी के बाद वह इतने दिनों तक चुप क्यों थे? वह पहले क्यों नहीं बोलते थे?

यह भी पढ़ेंः पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह की चिट्ठी से अनिल देशमुख की कुर्सी पर लटकी तलवार!

यह भी पढ़ेंः महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर कही ये बात

इस मामले में केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग करते हुए कहा, हमारी मांग है कि सचिन वाझे और शिवसेना का संबंध बहुत नजदीक दिख रहा है. देवेंद्र फडणवीस ने भी इस विषय पर अपनी बात रखी है. ये प्रकरण गंभीर है. मैं गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखने जा रहा हूं महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू होना ही चाहिए.

यह भी पढ़ेंः नागपुर में नहीं थम रहा कोरोना वायरस का संक्रमण, बढ़ाया गया 31 मार्च तक लॉकडाउन

बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा, मुंबई की पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने पत्र के माध्यम से जो आरोप लगाए हैं वो गंभीर हैं... महाराष्ट्र के गृह मंत्री को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए या मुख्यमंत्री को उन्हें हटाना चाहिए.

यह भी पढ़ेंः Post Office में है IPPB सेविंग अकाउंट तो अब लगेगा ये नया चार्ज, जान लें

आपको बता दें, परमबीर सिंह हाल ही में मुंबई पुलिस के कमिश्नर पद से हटाए गए हैं. उन्हें होमगार्ड विभाग की जिम्मेदारी दी गई है. हालांकि, इस कार्रवाई के बाद परमबीर सिंह ने सीएम उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिखी, जिसमें उन्होंने बताया कि अनिल देशमुख ने सचिन वाजे को हर महीने 100 करोड़ रुपये जुटाने को कहा था.

यह भी पढ़ेंः Instagram पर अब होगा बच्चों का भी कब्जा, इन तरीकों से कर सकते हैं इस्तेमाल