उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अखाड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरि की मौत की CBI जांच की सिफारिश की है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीबीआई से जांच कराने के आदेश दिए हैं. अब इसके लिए गृह विभाग ने केंद्र के पास सिफारिश भेजी है. महंत नरेन्द्र गिरि की मौत का मामला तूल पकड़ता जा रहा था. लगातार सीबीआई जांच की मांग पूरे मामले को लेकर की जा रही थी.

उत्तर प्रदेश के गृह विभाग ने कहा कि प्रयागराज में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महन्त नरेन्द्र गिरि जी की दुःखद मृत्यु से जुड़े प्रकरण की मुख्यमंत्री जी के आदेश पर सीबीआई से जांच कराने की संस्तुति की गई.

यह भी पढ़ेंःकौन हैं बलबीर गिरि? जिन्हें मौत से पहले उत्तराधिकारी घोषित कर गए नरेंद्र गिरि

गौरतलब है कि महंत नरेन्द्र गिरि की मौत मामले में सीबीआई जांच के लिए हाईकोर्ट में भी याचिका दायर की गई थी. यूपी के गृह विभाग ने यह जानकारी दी कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की है. अब केन्द्र सरकार को इस मामले में फैसला करना होगा कि वह सीबीआई जांच चाहती है या नहीं चाहती है.

यह भी पढ़ेंः क्या अमरिंदर सिंह छोड़ेंगे कांग्रेस? सिद्धू को खतरनाक तो राहुल और प्रियंका को बताया अनुभवहीन

पोस्टमार्टम के अनुसार, महंत नरेंद्र गिरि की मौत का समय 20 सितंबर को दोपहर 3 से 4 बजे के बीच का है. शरीर पर किसी तरह की चोट के निशान नहीं है. कहा गया है कि उनकी मौत फांसी लगने की वजह से हुई है.

महंत नरेंद्र गिरि की मौत मामले में पुलिस लगातार जांच में भी जुटी है, इसी कड़ी में गिरफ्तार किए गए आनंद गिरि से पूछताछ की जा रही है. महंत की मौत के बाद प्रयागराज पुलिस ने पहले आनंद गिरि को हरिद्वार से हिरासत में लिया था, बाद में गिरफ्तार किया गया. महंत नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरि का नाम लिया था.

यह भी पढ़ेंः मौलाना कलीम सिद्दीकी धर्मांतरण केस में गिरफ्तार हुए, सना खान का निकाह कराकर चर्चा में आए थे