राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट पिछले छह महीने से भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर सरकार गिराने का षड्यंत्र रच रहे थे. इसके साथ ही गहलोत ने पायलट पर तीखा हमला करते हुए उनको नकारा बताया है. 

पायलट पर गहलोत की तीखी प्रतिक्रिया

अशोक गहलोत ने कहा, "एक छोटी खबर भी नहीं पढ़ी होगी किसी ने कि पायलट साहब को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के पद से हटाना चाहिए. हम जानते थे कि वो (सचिन पायलट) निकम्मा है, नकारा है, कुछ काम नहीं कर रहा है खाली लोगों को लड़वा रहा है."

छह महीने से षड्यंत्र रच रहे थे पायलट: गहलोत

गहलोत ने आगे कहा, "सचिन पायलट पिछले छह महीने से बीजेपी के साथ मिलकर षड्यंत्र रच रहे थे. मैं जब कहता था कि सरकार को गिराने के लिए षड्यंत्र चल रहा है, तब मेरा विश्वास नहीं किया जाता था, कोई नहीं जनता था कि इतनी भोली शक्ल वाला ऐसा करेगा. मैं यहां सब्जी बेचने के लिए नहीं हूं, मैं मुख्यमंत्री हूं."

पायलट ने विधायकों को बंधक बनाया है: गहलोत 

इसके साथ ही गहलोत ने कहा कि उनका समर्थन कर रहे विधायक बिना किसी प्रतिबंध के रह रहे हैं, जबकि उन्होंने अपने विधयकों को बंधक बनाया हुआ है. गहलोत ने कहा कि उनके विधायक हमको फोन करके रो रहे हैं और अपना स्थिति बयां कर रहे हैं. सीएम ने ये भी आरोप लगाया कि उन विधायकों के फोन भी छीन लिए गए हैं, वह कांग्रेस के साथ जुड़ना चाहते हैं.