स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने मंगलवार को यहां भारत के दूसरे टेस्ट में जीत के साथ श्रृंखला बराबर करने के बाद कहा कि नियमित कप्तान विराट कोहली की गैरमौजूदगी में अजिंक्य रहाणे ड्रेसिंग रूम में धैर्य लेकर आए. एडीलेड में दिन-रात्रि टेस्ट की दूसरी पारी में अपने टेस्ट इतिहास के 36 रन के न्यूनतम स्कोर पर सिमटने के बाद मेलबर्न क्रिकेट मैदान (एमसीजी) पर भारतीय टीम ने रहाणे के नेतृत्व में जोरदार वापसी करते हुए आठ विकेट की यादगार जीत के साथ चार मैचों की श्रृंखला 1-1 से बराबर की.

स्टार आफ स्पिनर अश्विन ने ‘7 क्रिकेट’ से कहा, ‘‘36 रन पर आउट होने के बाद वापसी कभी आसान नहीं थी. अपने देश के क्रिकेट पर गर्व है और विराट को गंवाना झटके की तरह था.’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन हमने काफी अच्छी वापसी की. ड्रेसिंग रूम में जिंक्स (रहाणे) के धैर्य ने हमें स्थिरता दी जिसकी जरूरत थी और हम इस मैच में अपनी क्षमता के अनुरूप प्रदर्शन कर पाये .’’ पहले टेस्ट में हार से 0-1 से पिछड़ने के बाद भारत को एक और झटका लगा जब तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी भी दायें हाथ में फ्रेक्चर के साथ श्रृंखला से बाहर हो गए. लेकिन रहाणे ने दूसरे टेस्ट में पहले दिन से ही कप्तानी में कुछ अच्छे फैसले किए. उन्होंने पहले दिन 11वें ओवर में ही गेंद अश्विन को थमा दी जिसका फायदा मिला.

रहाणे के इस शानदार फैसले के बाद अश्विन ने अपने पहले स्पैल में ही मैथ्यू वेड और स्टीव स्मिथ को आउट किया. अश्विन ने लगातार दूसरी पारी में स्मिथ को अपने पहले स्पैल में आउट किया जिससे आस्ट्रेलियाई टीम पहली पारी में 195 रन पर सिमट गई. चौंतीस साल के अश्विन ने स्मिथ के विकेट के संदर्भ में कहा, ‘‘अगर आप आस्ट्रेलिया में आए हो और स्टीव स्मिथ को आउट नहीं कर पाए तो आपकी राह हमेशा मुश्किल होने वाली है.’’

मैच में पांच विकेट चटकाने वाले अश्विन ने कहा, ‘‘उसे जल्दी आउट करने को लेकर हम हमेशा रणनीति बनाते हैं. हम मिलकर रणनीति बनाते है और जब यह योजना सफल होती है तो खुशी होती है.’’ प्लेयर आफ द मैच चुने गए कप्तान रहाणे ने आगे बढ़कर अगुआई करते हुए पहली पारी में शतक जड़ा जिससे भारत 131 रन की बढ़त लेने में सफल रहा.