राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में बर्ड फ्लू की स्थिति को देखते हुए दिल्ली के तीनों नगर निगमों ने दुकानों और रेस्तराओं के पोल्ट्री या प्रसंस्कृत 'चिकन' बेचने तथा रखने पर बुधवार को तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी. इससे पहले दिन में उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने इस संबंध में आदेश जारी किया था. अब पूर्वी दिल्ली नगर निगम और दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने भी ऐसा ही निर्णय किया है.

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के पशु चिकित्सा सेवा विभाग की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि ग्राहकों को अंडा आधारित व्यंजन या पोल्ट्री मांस तथा अन्य संबंधित उत्पाद परोसे जाने पर रेस्तराओं और होटलों के मालिकों को कार्रवाई का सामना करना होगा.

इसने कहा, ''उत्तरी दिल्ली नगर निगम के अंतर्गत आने वाली मांस और पोल्ट्री की दुकानों, मांस प्रसंस्करण इकाइयों के पोल्ट्री या प्रसंस्कृत या पैक 'चिकन' को बेचने या रखने पर तत्काल प्रभाव से अगले आदेशों तक रोक लगा दी गई है.' इसमें कहा गया है कि आदेश जनहित में जारी किया गया है और इसका पालन किया जाना चाहिए.

वहीं, दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के एक अधिकारी ने कहा कि शहर में बर्ड फ्लू के चलते दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने भी दुकानों और रेस्तराओं के पोल्ट्री या प्रसंस्कृत 'चिकन' बेचने तथा रखने पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने का निर्णय किया है.

उधर, पूर्वी दिल्ली के महापौर निर्मल जैन ने कहा कि पूर्वी दिल्ली नगर निगम के अधिकारियों ने भी पूर्वी दिल्ली क्षेत्र में तत्काल प्रभाव से दुकानों और रेस्तराओं के पोल्ट्री या प्रसंस्कृत 'चिकन' बेचने तथा रखने पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय किया है. उन्होंने कहा कि यह रोक होटलों पर भी लगाई गई है.

नगर निकायों के इस फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मांस की दुकानों और रेस्तराओं के मालिकों ने कहा है कि इस निर्णय की कोई आवश्यकता नहीं थी और इससे उनके कारोबार को बड़ा नुकसान होगा.

नेशनल रेस्टोरेंट एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष अनुराग कटरियार ने कहा कि प्रतिबंध का कोई मतलब नहीं है. उन्होंने कहा कि इस बात के वैज्ञानिक साक्ष्य हैं कि 70 डिग्री सेल्सियस पर पकाया गया कोई भी व्यंजन खाने के लिए सुरक्षित है और नगर निकायों के निर्णय का कारोबार पर काफी विपरीत असर पड़ेगा.

दिल्ली में मृत मिले कौओं और बत्तखों के नमूनों में सोमवार को बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई थी. इसके बाद दिल्ली सरकार ने शहर के बाहर से लाए गए प्रसंस्कृत और पैक चिकन की बिक्री पर रोक लगा दी थी. अधिकारियों ने गाज़ीपुर मुर्गा मंडी को भी बंद कर दिया है. बीते एक सप्ताह में पूर्वी दिल्ली के संजय झील इलाके में कई बत्तखें और शहर के अलग-अलग पार्कों में बड़ी संख्या में कौए मृत मिले हैं.