90 के दशक में ज्यादातर माता की भेटें गाने वाले भजन सम्राट नरेंद्र चंचल ने 80 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया. बताया जा रहा है कि चंचल लंबे समय से बीमार थे और आज उन्होंने सर्वप्रिय विहार स्थित घर में अंतिम सांस ली. नरेंद्र चंचल ने बचपन मातारानी के भजन गाते हुए बिताया और उनके गाए भजन घर-घर में मशहूर हुए.

म्यूजिक कंपोजर और सिंगर दिलेर मेहंदी ने ट्वीट करते हुए कहा, 'यह जानकर गहरा दुख हुआ कि प्रतिष्ठित और सबसे ज्यादा प्यार करने वाले नरेन्द्र चंचल जी हमें छोड़कर स्वर्ग चले गए. उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं और ईश्वर उनके परिवार और प्रशंसकों को इस दुख में शक्ति प्रदान करें.'

क्रिकेटर हरभजन सिंह ने ट्वीट किया, 'ये जानकर बहुत दुख हुआ हम सबके सबसे प्यारे नरेंद्र चंचल दुनिया को अलविदा कह गए. उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं.'

बता दें, 16 अक्टूबर, 1940 को पंजाब के अमृतसर में नरेंद्र चंचल का जन्म हुआ था. इन्होंने माता, मां, मइया, शेरावाली, नवरात्रि स्पेशल जैसी कई माता की भेटें गाई हैं. नरेंद्र चंचल ने चलो बुलावा आया है, जय माता दी, भोर भई दिन चढ़ गया, तूने मुझे बुलाया शेरावालिए, दिल वाली पालकी जैसे कई भजन गाए हैं.