बिहार ले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि अब राज्य के मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों में लड़कियों के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण होगा. 

राज्य में मेडिकल और इंजीनियरिंग विश्वविद्यालयों स्थापित किए जानें को लेकर स्वास्थ्य, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभागों के प्रेजेंटेशन के बाद सीएम ने लड़कियों के आरक्षण का बड़ा ऐलान किया.  

यह भी पढ़ें: डेटशीट जारी करने के बाद गुजरात बोर्ड ने रद्द की 12वीं की परीक्षा

नीतीश कुमार ने पाया कि विश्वविद्यालयों की स्थापना से इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों के बेहतर प्रबंधन की सुविधा होगी और उन्होंने कहा, "इन कॉलेजों में 33 प्रतिशत सीटें लड़कियों के लिए आरक्षित होनी चाहिए."

नीतीश कुमार ने कहा, "यह एक अनूठा प्रयास होगा और उच्च शिक्षा के इन तकनीकी संस्थानों में लड़कियों के उच्च नामांकन को सुनिश्चित करने में एक लंबा रास्ता तय करेगा. इस प्रकार लड़कियों को भी इस तरह के पाठ्यक्रमों को आगे बढ़ाने में अधिक रुचि लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा." 

यह भी पढ़ेंः 12वीं बोर्ड परीक्षा कैंसिल होने के बाद बड़ा सवाल, एडमिशन कैसे होंगे? जानें, DU ने क्या कहा

नीतीश कुमार ने यह भी दोहराया कि उनकी सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है कि राज्य में पर्याप्त संख्या में मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज हों ताकि इन विषयों में रुचि रखने वाले लड़के और लड़कियां अपनी पढ़ाई के लिए दूसरे राज्यों में जाने के लिए मजबूर न हों. उन्होंने कहा, "इसके लिए हमने कई मेडिकल कॉलेज स्थापित किए हैं और सभी जिलों में कम से कम एक इंजीनियरिंग कॉलेज है."

मुख्यमंत्री के अलावा कार्यक्रम में उपमुख्यमंत्री रेनू देवी, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे और साइंस और टेक्नोलॉजी मिनिस्टर सुमित सिंह भी मौजूद रहे.

With PTI inputs

यह भी पढ़ें: कौन है माहिरा इरफान? ऑनलाइन क्लास को लेकर पीएम से की शिकायत