बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर एनडीए में सीटों का बंटवारा हो चुका है. एनडीए में मुख्य पार्टियों के रूप में जेडीयू और बीजेपी के बीच 122 और 121 सीटों का बंटवारा किया गया. वहीं, जेडीयू ने मांझी की पार्टी हम को 7 सीट अपने कोटे से दी है. इसके साथ ही बीजेपी ने भी मुकेश साहन की पार्टी विकासशील इंसान पार्टी (VIP) को 11 सीट अपने कोटे से देने का ऐलान किया है.

महागठबंधन से हाल ही में रिश्ता तोड़ने के बाद मुकेश साहनी सीधे एनडीए में आ गए. लेकिन उन्हें यहां निराश नहीं होना पड़ा. बीजेपी ने समय की नजाकत को समझते हुए उन्हें 11 सीट दे दी. इसके अलावा बीजेपी ने ये भी ऐलान किया है कि भविष्य में उन्हें विधान परिषद् की भी सीटें दी जाएगी.

मुकेश साहनी के लिए एनडीए में राह आसान हो जाना कोई आश्चर्य की बात नहीं है. बल्कि ये सब सियासत का हिस्सा है. बिहार में एनडीए के ताजा हालात के मुताबिक साहनी उसमें फिट बैठ रहे हैं.

दरअसल, चिराग पासवान के एनडीए से अलग होने के बाद ही मुकेश साहनी की राह आसान हुई है. चिराग के जाने के बाद बीजेपी को ऐसे साथी की तलाश थी जो दलित वोटों को साध सके ऐसे में मुकेश साहनी पिछड़ा वर्ग से आते हैं. मुकेश साहनी निषाद जाति से आते हैं और बिहार में इस जाति के करीब 4 प्रतिशत वोट हैं. हालांकि, वोट बैंक के मु्ताबिक वोट प्रतिशत कम हो लेकिन ये कुछ जिलों में निर्णायक साबित होता है. ऐसे में VIP बीजेपी के लिए इन्हीं वोटों को साधने का काम करेगी.

बहरहाल, इस बार बिहार चुनाव का परिदृश्य काफी दिलचस्प हो चुका है. पहले ये लड़ाई एनडीए और महागठबंधन के बीच थी लेकिन अब इसमें कई मोर्चे दिखाई दे रहे हैं. इसमें पप्पू यादव का गठबंधन, उपेंद्र कुशवाहा का गठबंधन और चिराग की अलग राह भी चुनाव को दिलचस्प बनाने के लिए तैयार है.