आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार नीत एनडीए सरकार पर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को सवाल किया कि क्या यह दर्जा अमेरिकी राष्ट्रपति दिलाएंगे?

तेजस्वी ने तेघड़ा और विभूतिपुर में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश की एनडीए सरकार 15 वर्षों से है, डबल इंजन की सरकार है लेकिन बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिला.

उन्होंने सवाल किया, ‘‘क्या अमेरिकी राष्ट्रपति यहां आकर विशेष राज्य का दर्जा दिलायेंगे? या मोदी जी दिलायेंगे.’’

उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि पिछले 15 साल के शासन में उन्होंने राज्य की शिक्षा, स्वास्थ्य और उद्योग की व्यवस्था को चौपट कर दिया है और यही वजह है कि वह बेरोजगारी, उद्योगों में नौकरी, निवेश और पलायन जैसे मुद्दों पर नहीं बोलते हैं.

आरजेडी नेता ने सवाल किया कि क्या उन्हें इन मुद्दों पर नहीं बोलना चाहिए?

तेजस्वी ने रोजगार एवं विकास के चुनावी वादे को दोहराते हुए कहा कि उन्हें सरकार बनाने का मौका मिला तो कैबिनेट की पहली बैठक में 10 लाख लोगों को सरकारी नौकरी देने के फैसले को मंजूरी देंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘हमारी सरकार आने पर बिहारवासियों को कमाई, पढ़ाई और दवाई के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा.’’

तेजस्वी ने कहा कि पंद्रह वर्ष के शासनकाल में नीतीश सरकार ने बिहार में कुछ नहीं किया और आज भी शिक्षा, इलाज और रोजी-रोटी के लिये लोगों का पलायन जारी है.

आरजेडी नेता ने कहा कि उनकी सरकार बन गई तो नियोजित शिक्षकों की समान काम के बदले समान वेतन, आंगनवाड़ी सेविका, टोला सेवक की मांग को पूरा किया जाएगा. तेजस्वी ने कहा, ‘‘हम नयी सोच के हैं और समाज के हर वर्ग को साथ लेकर नये बिहार का निर्माण करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.’’