मुजफ्फरपुर के पश्चिम में स्थित साहेबगंज में राजनीतिज्ञों के बीच गहमा-गहमी शुरू हो चुकी है. राजपूत बहुल क्षेत्र में उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला विकास या मुद्दे नहीं बल्कि जाति तय करती है. चार बार यहां के विधायक रहे रामविचार राय महागठबंधन की तरफ से एक बार फिर खड़े हैं. जबकि NDA में यह सीट वीआईपी के खाते में है, वैसे यहां के मैदान में 20 योद्धा हैं लेकिन मेन टक्कर रामविचार राय और तीन बार विधायक रहे वीआईपी के राजू कुमार सिंह को माना जा रहा है.

साल 2005 और साल 2010 में राजग गठबंधन में शामिल जदयू उम्मीदवार के रूप में राजू कुमार सिंह यहां से जीते थे. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बदले समीकरण के बीच राजू कुमार सिंह ने बीजेपी ज्वाइन कर ली थी लेकिन साल 2015 में रामविचार राय ने हार का सामना किया. 5 साल बाद एक बार फिर वही चेहरे आमने-सामने हैं और इसमें फर्क बस इतना हो गया है कि राजू वीआईपी के टिकट इस बार मैदान में हैं.

साहेबगंज विधानसभा सीट

कुल वोटर-315000

पुरुष वोटर-163000

महिला वोटर-140000