आज के समय में मनुष्य को बहुत सी बीमारियों से जूझना पड़ता है. वहीं, इस वक्त डायबिटीज का खतरा बढ़ता जा रहा है. इस बीमारी में पेशेंट के ब्लड शुगर में इंसुलिन का उत्पादन कम हो जाता है जिसके कारण उनका ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है. ऐसे में डायबिटीज के मरीज को खान-पान का ध्यान रखने की सलाह दी जाती है. साथ ही उन्हें नियमित रूप से शुगर की जांच करवाते रहना चाहिए. डॉक्टर की सलाह ले कर भी हम घर बैठे अपने शुगर को कंट्रोल कर सकते हैं. इसके साथ ही एक ऐसा जूस जो डायबिटीज के इलाज के लिए काफी फायदेमंद होता है.

ये है करेले का जूस, वैसे तो आपको कई लोगों ने करेले के जूस की सलाह दी होगी. लेकिन इसके लिए भी कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना जरूरी है. जैसे की इसका सेवन कैसे करें और इसके सेवन करने का सही समय क्या है. ये सारी बातें भी आपके लिए जानना जरूरी है.

यह भी पढ़ें - Men's Health: पुरुष भूलकर भी इन 4 लक्षणों को नहीं करें इग्नोर, बढ़ सकता है खतरा

पहले जानें करेले के जूस के फायदे

करेला वैसे तो स्वाद में कड़वा होता है लेकिन उसके अंदर अधिक मात्रा में ऑक्सीडेंट, विटामिन ए और पोटेशियम पाया जाता है. डायबिटीज पेशेंट को अपने आहार में हमेशा करेले का जूस शामिल करना चाहिए. एक स्टडी से पता चलता है करेले के जूस का सेवन करने से शरीर में इंसुलिन की मात्रा बढ़ जाती है. इससे शुगर पेशेंट को बहुत फायदा मिलता है.

यह भी पढ़ें - फेफड़ों की गंभीर बीमारी का संकेत होते हैं ये 5 लक्षण, भूलकर भी नहीं करें इग्नोर

कैसे करें जूस का सेवन?

डायबिटीज से ग्रस्त पेशेंट को रोजाना सुबह खाली पेट एक गिलास करेले के जूस का सेवन करना चाहिए. इसकी मदद से पेशेंट का ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर दोनों नियंत्रण में रहेंगे.

यह भी पढ़ें - हड्डियों की मजबूती है जरूरी, कुछ आदतों से होते हैं ये कमजोर

डायबिटीज पेशेंट इस तरह भी करेले को उपयोग में लाएं

शुगर पेशेंट ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए एक पाउडर का निर्माण भी कर सकते हैं. यह पाउडर शुगर में बहुत लाभदायक रहेगा. इस पाउडर में आप मेथी दाने , जामुन की गुठली , नीम की पत्ती और सूखा करेला ले. इन सभी को मिक्सी में पीसकर इसका पाउडर बना लें. इस पाउडर को आपको रोजाना इस्तेमाल में लेना है. एक छोटा चम्मच पाउडर पानी के साथ दिन में दो बार ले. इसे शुगर लेवल कंट्रोल रखने में सहायता मिलेगी.

यह भी पढ़ेंः Vitamin C के शरीर में हैं कई फायदे लेकिन ज्यादा मात्रा पर जान लें क्या है नुकसान