भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी सैयद जफर इस्लाम शुक्रवार को राज्यसभा के निर्विरोध निर्वाचित घोषित किये गये. चुनाव अधिकारी ब्रज भूषण दुबे ने यहां पीटीआई-भाषा को बताया कि ''उन्हें निर्वाचित घोषित कर दिया गया है.''

शुक्रवार को तीन बजे तक नामांकन वापयस लेने की अंतिम तिथि थी लेकिन जफर के अलावा कोई भी प्रत्याशी मैदान में नही था. चुनाव 11 सितंबर को होना था.

राज्यसभा की यह सीट समाजवादी पार्टी के सांसद अमर सिंह के निधन के बाद खाली हुई थी. सिंह का एक अगस्त को सिंगापुर में निधन हो गया था. जफर का कार्यकाल चार जुलाई 2022 तक रहेगा.

मंगलवार को भाजपा के गोविंद नारायण शुक्ला ने राज्यसभा की सीट के लिये अपना पर्चा दाखिल किया था. इसके बाद निर्दलीय प्रत्याशी महेश चंद्र शर्मा ने भी अपना पर्चा दाखिल किया था.

निर्दलीय शर्मा का पर्चा बुधवार को खारिज हो गया था क्योंकि उन्हें नियमानुसार दस विधायकों का समर्थन हासिल नही था.

भाजपा के शुक्ला ने पर्चा इसलिये भरा था कि अगर किसी तकनीकी कमी के कारण जफर का नामांकन खारिज हो जाये तो वह पार्टी की तरफ से उम्मीदवार रहें. उन्होंने भी बृहस्पतिवार को अपना नामांकन वापस ले लिया था.

जफर इस्लाम भाजपा के प्रवक्ता हैं. मध्य प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा में लाने में इस्लाम की प्रमुख भूमिका थी.