महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ टिप्पणी को लेकर केंद्रीय मंत्री नारायण राणे को गिरफ्तार किए जाने के एक दिन बाद, बीजेपी ने बुधवार को कहा कि उसने महाराष्ट्र के नाशिक में सीएम, उनकी पत्नी और 'सामना' की संपादक रश्मि ठाकरे और युवा सेना के अध्यक्ष वरुण सरदेसाई के खिलाफ तीन अलग-अलग पुलिस शिकायतें दर्ज की हैं. बीजेपी ने विभिन्न आधारों पर उनके खिलाफ एफआईआर की मांग की है. 

यह भी पढ़ें: 'पत्नी के साथ जबरदस्ती बनाया गया शारीरिक संबंध रेप नहीं', HC का चौंकाने वाला फैसला

नाशिक के सरकारवाड़ा पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक हेमंत सोमवंशी ने बताया, "बीजेपी के दो विधायक आए थे. उन्होंने 'सामना' के संपादक के ख़िलाफ कुछ ग़लत शब्द इस्तेमाल करने की शिकायत दर्ज कराई है. इस संबंध में मामला दर्ज़ हो, इस प्रकार की अर्ज़ी उन्होंने दी है."

नाशिक से बीजेपी विधायक देवयानी फरांदना ने कहा, "आज भाजपा नाशिक महानगर की तरफ से मुख्यमंत्री महोदय, 'सामना' के संपादक के ख़िलाफ दो फरियाद दाख़िल करने की बात पुलिस आयुक्त के पास रखी है. सामना के संपादक ने नारायण राणे के बारे में सामना के द्वारा जो बात कही वो नारायण राणे का अपमान करने वाली है."  

यह भी पढ़ें: खेत बेचकर पत्नी के खाते में जमा किए थे 39 लाख, 11 रुपये छोड़कर पड़ोसी संग हो गई फरार

बीजेपी विधायक ने आगे कहा, "उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बारे में उद्धव ठाकरे ने कहा था "ये योगी नहीं भोगी है और योगी जी को चप्पल से मारना चाहिए." ये उचित नहीं है. इसीलिए हमारी आशा है कि उनके ख़िलाफ सख़्त कार्रवाई होगी."

केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद नारायण राणे के खिलाफ सीएम ठाकरे को लेकर आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने के एक दिन बाद बीजेपी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के लिए आवेदन प्रस्तुत किया है.

नारायण राणे को मंगलवार दोपहर को महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले से रायगढ़ में उनकी 'जन आशीर्वाद यात्रा' के दौरान की गई उनकी टिप्पणी के बाद गिरफ्तार किया गया था. आपको बता दें, नारायण राण ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लेकर विवादित बयान दिया था. इस बयान में उन्होंने सीएम की आलोचना करने के साथ ही उन्हें थप्पड़ तक मारने की बात कह दी थी. इसके बाद ही नारायण राणे पर कई एफआईआर दर्ज किए गए हैं.

यह भी पढ़ें: अफगानिस्तान के पूर्व IT मंत्री जो अब जर्मनी में पिज्जा डिलीवर करने को मजबूर, इनकी कहानी सुनिए