हाथरस की घटना की पृष्ठभूमि में बलिया के भाजपा विधायक के एक बयान से विवाद खड़ा हो गया है. विधायक सुरेंद्र सिंह ने शनिवार को चांदपुर में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि ‘‘संस्‍कार से बलात्‍कार रुक सकता है, शासन और तलवार से नहीं.’’

विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा, "मैं विधायक के साथ एक शिक्षक हूं. ये घटनाएं संस्कार से रुक सकती हैं. शासन और तलवार से रुकने वाली नहीं हैं. सभी माता-पिता का धर्म है कि अपनी बेटी को एक संस्कारिक वातावरण में रहने, चलने और शालीन व्यवहार प्रस्तुत करने का तरीका सिखाएं."

बीजेपी विधायक ने आगे कहा, "ये सबका धर्म है. सरकार और परिवार दोनों का. जहां सरकार का रक्षा करने का धर्म है वहीं परिवार का भी धर्म है कि वो अपने बच्चों में संस्कार डाले. सरकार और संस्कार मिलकर भारत को एक सुंदर रूप दे सकते हैं."

सिंह के इस बयान की कांग्रेस ने निंदा की है.

उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने देर रात अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा, ''भाजपा और आरएसएस की ऐसी घटिया सोच के चलते ही उत्तर प्रदेश बेटियों के लिए सबसे असुरक्षित स्‍थान बन चुका है. बलात्‍कारी मानसिकता को बल देने वाले ऐसे नेताओं का सामाजिक बहिष्‍कार होना चाहिए.’’