राजस्थान में जारी घटनाक्रम के बीच एक ऑडियो वायरल हो रहा है, जिसमें कथित तौर पर विधायकों की खरीद-फरोख्त की बात की जा रही है. कांग्रेस आरोप लगा रही है कि ये आवाजा केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की है, हालांकि बीजेपी नेताओं ने इस ऑडियो को फर्जी बताते हुए खारिज किया है. वहीं गजेंद्र सिंह शेखावत ने भी कहा है कि मैं हर जांच का सामना करने को तैयार हूं.

इससे पहले भाजपा ने इसे नेताओं के चरित्र हनन का प्रयास बताया. भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने इस ऑडियो टेप पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा, ‘‘ आज जो कुछ हुआ उसने राजस्थान की राजनीति को शर्मसार किया है ... कि मुख्यमंत्री निवास फर्जी ऑडियो का केंद्र बन जाए और नेताओं के चरित्र हनन का प्रयास हो.’’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपने घर की फिक्र करने के बजाय भाजपा व केंद्रीय मंत्रियों पर आरोप लगा रही है. पूनियां के अनुसार महामारी के बीच राज्य सरकार एक बार फिर रिजॉर्ट में बंद है जो बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है.

उन्होंने कहा, ‘‘इनकी आपस की सियासत से राजस्थान की जनता ठगा हुआ महसूस कर रही है.’’ भाजपा नेता एवं विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ ने इस ऑडियो टेप को फर्जी बताया है.

राठौड़ ने ट्वीट किया कि यह फर्जी ऑडियो जारी करने से ये सिद्द हो गया है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से निजता पर हमला जारी है. साथ ही बड़े स्तर पर फोन टैप कर और उन्हें अपभ्रंश कर जनता में भ्रम फैलाया जा रहा है, ये अत्यन्त शर्मनाक कृत्य है. उल्लेखनीय है कि इस कथित ऑडियो में बातचीत कर रहे लोगों के बारे में कांग्रेस का दावा है कि यह आवाज कांग्रेस के बागी विधायक भंवरलाल शर्मा, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत व भाजपा नेता संजय जैन की है जिनमें कथित तौर पर विधायकों की खरीद फरोख्त के बारे में चर्चा हो रही है. शर्मा ने इस आडियो को फर्जी करार दिया है. कांग्रेस ने इस टेप का हवाला देते हुए मंत्री शेखावत को बर्खास्त करने की मांग की है.