भारत में किसानों ने सरकार के कृषि कानून के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है. किसान लगातार आंदोलन को आगे बढ़ा रहे हैं. वहीं, इस किसान आंदोलन का मुद्दे को दूसरे देश भी उठा रहे हैं. ब्रिटेन की संसद में बुधवार को भारत में हो रहे किसान आंदोलन का मुद्दा उठाया गया. लेकिन इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री बेरिस जॉनसन ने ऐसा जवाब दिया कि सभी लोग अचंभित रह गए.

लेबर पार्टी के ब्रिटिश सिख सांसद तनमनजीत सिंह धेसी ने प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन से भारत में किसानों द्वारा किए जा रहे विरोध प्रदर्शन पर संसद में सवाल पूछा, तो जॉनसन भ्रमित हो गए. जॉनसन ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच किसी भी विवाद का हल द्विपक्षीय बातचीत से हो सकता है.

MSP पर सरकार लिखित आश्वासन को तैयार, किसानों ने ठुकराया प्रस्ताव, 14 तारीख को पूरे देश में करेंगे प्रदर्शन

जॉनसन के जवाब से अचंभित धेसी ने तत्काल सोशल मीडिया का सहारा लिया और ट्विटर पर आश्चर्य प्रकट किया कि प्रधानमंत्री जॉनसन को यह नहीं पता कि वह किस विषय पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं.

Wi-Fi क्रांति के लिए सरकार ने दी 'PM WANI' योजना को मंजूरी

दरसअल, धेसी ने भारत में किसानों का मुद्दा उठाते हुए संसद में पूछा कि क्या जॉनसन, ब्रिटेन में रहने वाले सिख समुदाय की चिंताओं से भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अवगत कराएंगे.

इस सवाल के जवाब में जॉनसन ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच किसी भी विवाद का हल वहां की सरकारें कर सकती हैं.