टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई करके सानिया मिर्जा चार बार ओलंपिक खेलों में भाग लेने वाली पहली भारतीय महिला टेनिस खिलाड़ी बन गई है. सानिया 34 साल की है. आपको बता दें कि 23 जुलाई से टोक्यो ओलंपिक  शुरू होने वाले है. सानिया महिला युगल स्पर्धा (विमेंस डबल्स) में शीर्ष क्रम की भारतीय सिंगल खिलाड़ी अंकिता रैना (Ankita Raina) के साथ जोड़ी बनाएंगी. मिक्स्ड डबल्स में किन्हीं विवादों के चलते रोहन्ना बोपन्ना क्वालीफाई नहीं कर पाए और भारतीय जोड़ी इस इवेंट में खेलती नजर नहीं आएगी. 

ये भी पढ़ें: क्या Tokyo Olympics में मेडल ला पाएंगी पीवी सिंधु, देखिए कैसा रहा है उनका हालिया प्रदर्शन

सानिया मिर्जा, रियो 2016 में रोहन बोपन्ना के साथ मिश्रित युगल स्पर्धा (Mixed Double Event) में कांस्य पदक से चूक गई थीं. सानिया मिर्जा को 2017 के सीज़न के दौरान घुटने की चोट का सामना करना पड़ा था. इसके बाद साल 2018 में उन्होंने अपने बेटे इजहान को जन्म दिया. 

सानिया ने 2020 में होबार्ट अंतरराष्ट्रीय खिताब जीती. इसके बाद सानिया को एक और चोट का सामना करना पड़ा. इसके साथ ही कोरोना महामारी के चलते मार्च में टेनिस सीजन रोकना पड़ा. 

लेकिन इस साल 34 वर्षीय सानिया मिर्जा ने मार्च में कतर ओपन खेला. यहां खेले आठ मैचों में उन्हें चार में हार हाथ लगी थी. वह टोक्यो 2020 में भारत की ओर से खेलने वाली हैं. आइए देखते हैं कि 2021 टेनिस सीजन में अब तक उन्होंने कैसा प्रदर्शन किया है.  

ये भी पढ़ेंः बैडमिंटन का ओलंपिक इतिहास, इस बार कितने मेडल जीत सकता है भारत

कतर ओपन 

एक साल से अधिक समय के बाद सानिया अपना पहला टूर्नामेंट खेलते हुए अपनी स्लोवेनिया की जोड़ीदार आंद्रेजा क्लेपैक के साथ WTA 500 इवेंट के सेमीफाइनल में पहुंच गई थी. हालांकि अंतिम चार के पढ़ाव में निकोल मेलिचर और डेमी शूर्स ने सानिया और आंद्रेजा को  5-7, 6-2, 5-10 से हरा दिया था. 

ये भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलिया के ब्रिसबेन में होगा 2032 ओलंपिक खेलों का आयोजन

दुबई ओपन 

इस दौरे की  शुरुआत में सानिया मिर्जा और आंद्रेजा क्लेपैक ने सैसाई झेंग और शेल्बी रोजर्स को 6-1, 6-3 से हराया था

हालांकि इस जीत की खुशी ज्यादा देर नहीं टिकी और अगले दौर में हेले कार्टर और लुइसा स्टेफनी से सानिया और आंद्रेजा को 3-6, 3-6 से हार का सामना करना पड़ा.

ईस्टबोर्न इंटरनेशनल

सानिया ने अमेरिकी युगल स्टार बेथानी माटेक-सैंड्स के साथ वापस जोड़ी बनाई, इन दोनों की जोड़ी ने UK में ग्रास कोर्ट सीज़न के लिए पांच WTA टूर खिताब जीते थे. लेकिन, इस जोड़ी को पहले ही दौर में क्रिस्टीना मैकहेल और सबरीना संता मारिया के हाथों हार मिली थी. 

ये भी पढ़ें: टोक्यो ओलंपिक में खिलाड़ियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर क्या होंने नियम?

विंबलडन चैंपियनशिप 

चार साल में पहली बार विंबलडन में वापसी कर रही सानिया मिर्जा ने माटेक-सैंड्स के साथ मिलकर देसीरा क्राव्ज़िक और एलेक्सा गुआराची को पहले दौर में 7-5, 6-3 से दूसरे दौर में हरा दिया. जिसके बाद दोनों का सामना वेरोनिका कुडरमेतोवा और एलेना वेस्नीना की जोड़ी से हुआ जिसके बाद सानिया और उनकी जोड़ीदार को हार का सामना करना पड़ा और वह टूर्नामेंट में उपविजेता रहे. 

ये भी पढ़ेंः टोक्यो ओलंपिक में किसी भी विजेता को नहीं पहनाया जाएगा मेडल