राष्ट्रीय खेल दिवस (National Sports Day) के मौके पर टोक्यों पैरालंपिक (Tokyo Paralympics) में भाविना पटेल ने देश को सिल्वर मेडल दिलाकर लोगों को दोहरी खुशी दी है. भाविना ने ये मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है. वह भारत की ओर से टेबल टेनिस में पैरालंपिक में मेडल जीतने वाली पहली खिलाड़ी बन गई हैं. वहीं, उनकी इस जीत से देश में जश्न का माहौल है. देशभर में भाविना की सफलता के लिए उन्हें बधाई दी जा रही है. उनकी जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी बधाई दी है.

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने टोक्यो पैरालिंपिक में रजत पदक जीतने पर पैरा टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविना पटेल को शुभकामनाएं दीं और कहा,"आपके असाधारण दृढ़ संकल्प और कौशल ने भारत को गौरवान्वित किया है. इस असाधारण उपलब्धि के लिए आपको मेरी बधाई."

वहीं, पीएम मोदी ने टोक्यो पैरालिंपिक में रजत पदक जीतने पर पैरा-पैडलर भावना पटेल को बधाई दी और कहा, "उल्लेखनीय भावना पटेल ने इतिहास रचा है! उनकी जीवन यात्रा प्रेरित कर रही है और अधिक युवाओं को खेलों की ओर आकर्षित करेगी."

भाविना पटेल के पिता हसमुखभाई पटेल ने कहा, "उसने देश का नाम रोशन किया. वह गोल्ड मेडल नहीं लेकर आईं लेकिन हम रजत पदक से भी खुश है. वापस आने पर हम उसका भव्य स्वागत करेंगे.

टोक्यो पैरालंपिक में टेबल टेनिस में रजत पदक जीतने वाली खिलाड़ी भाविना पटेल के जीत पर गुजरात में जश्न मनाया जा रहा है. वहीं, उनके घर मेहसाणा में उनके परिवारजनों, दोस्तों और रिश्तेदारों ने जश्न मनाया. उन्होंने मिठाईयां बांटी और गरबा कर जीत की खुशी जाहिर की.

बता दें, भाविना पटेन फाइनल मैच में चीन की यिंग से भिड़ंत हुई लेकिन वह ये मैच हार गई और गोल्ड से एक कदम पीछे रह गई. लेकिन उन्होंने अपने नाम सिल्वर मेडल कर लिया है. भाविना पटेल का टोक्यो पैरालंपिक में सफर बेहद ही शानदार रहा. भाविना पटेल ने अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया. वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर 12 पर मौजूद भाविना पटेल बड़े बड़े खिलाड़ियों को मात देकर आगे बढ़ीं.