23 जनवरी को देशभर में महान स्वतंत्रता सेनानी और आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती मनाई जाएगी. इस खास दिन से पहले केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, 23 जनवरी को अब हर साल 'पराक्रम दिवस' मनाया जाएगा. इस खास दिन को अब हर साल इसी दिवस के रूप में जाना जाएगा.

ANI के अनुसार, संस्कृति मंत्रालय ने बताया, 'भारत सरकार ने ये फैसला किया है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मतिथि के दिन यानी 23 जनवरी को हर साल 'पराक्रम दिवस' मनाया जाएगा.'

सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती मनाने के लिए पीएम मोदी की अध्यक्षता में एक उच्च कमेटी का गठन हुआ है. इस कमेटी में पीएम मोदी के साथ ही राजनाथ सिंह, अमित शाह, ममता बनर्जी, जगदीप धनकड़, मिथुन चक्रवर्ती, काजोल और एआर रहमान सहित 84 लोगों को सदस्य के रूप में शामिल किया गया है.

बता दें, 23 जनवरी, 1897 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म हुआ था. इन्होंने आजाद फौज हिंद की स्थापना की थी और देश के लिए कई बड़े काम किये.