चंडीगढ़, 28 अप्रैल (भाषा) हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बुधवार को कहा कि केंद्र ने हरियाणा के लिए दैनिक चिकित्सकीय ऑक्सीजन आपूर्ति का कोटा बढ़ाकर 232 मीट्रिक टन कर दिया है।

विज ने ट्वीट किया, ‘‘भारत सरकार का शुक्रिया कि उसने हरियाणा के लिए ऑक्सीजन का कोटा 162 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 232 मीट्रिक टन कर दिया है।’’

राज्य सरकार ने मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के संयुक्त सचिव निपुण विनायक से हुई बातचीत में ऑक्सीजन कोटा पर पुनर्विचार करने को लेकर सूचित किया था।

विज ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि राज्य ने ओडिशा से जीवनरक्षक गैस के अतिरिक्त कोटा को विमान से लाने के लिए औपचारिकताएं पूरी कर ली हैं।

विज ने कहा, ‘‘बढ़ाये गये चिकित्सकीय ऑक्सीजन कोटे को ओडिशा से विमान से लाने की कोशिश की जा रही है। औपचारिकताएं लगभग पूरी कर ली गयी हैं। अगर सबकुछ ठीक रहा तो हरियाणा को जल्द राहत मिल जायेगी।’’

हालांकि इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के वरिष्ठ नेता अभय सिंह चौटाला ने राज्य में कोविड-19 की स्थिति के प्रबंधन को लेकर भाजपा-जननायक जनता पार्टी (जजपा) के नेतृत्व वाली सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि राज्य में हालात दिल्ली से भी खराब है।

उन्होंने कहा, ‘‘हरियाणा में हालात दिल्ली से भी खराब है। अस्पतालों में बेड नहीं हैं, ऑक्सीजन की किल्लत है।’’

चौटाला ने मंगलवार को सिरसा में पत्रकारों से कहा, ‘‘इस सरकार को सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है। लोगों को मूलभूत जरूरी चीजें उपलब्ध कराना तो दूर वे तो आपात सेवा भी उन्हें नहीं दे पा रहे हैं।’’

उन्होंने कहा कि स्थिति को संभालने में कथित रूप से नाकाम रहने के लिए राज्य के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को इस्तीफा दे देना चाहिए।

हरियाणा में अप्रैल में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ने लगे और कोविड-19 से मृतक संख्या में भी वृद्धि हुई है।

राज्य में मंगलवार को एक दिन में सर्वाधिक 84 मरीजों की मौत होने से मृतक संख्या बढ़कर 3,926 हो गयी और संक्रमण के 11,931 नए मामले आने से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,47,754 हो गयी।

हरियाणा में पिछले कुछ दिनों में चिकित्सकीय ऑक्सीजन की मांग बढ़ी है क्योंकि राज्य में वर्तमान में 85,000 से अधिक मरीज उपचाराधीन हैं। अधिकारियों ने बताया कि हरियाणा के अस्पतालों में भी दिल्ली समेत अन्य जगहों से मरीज आ रहे हैं।