दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने बुधवार को दावा किया अमरिंदर सिंह पर बीजेपी सरकार का काफी दबाव है. उन्होंने मुझे पता है ये दबाव क्यों हैं, क्योकि मुझे भी कई फोन कॉल आए. उन्होंने कहा, कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के लिए स्टेडियमों को अस्थायी जेल के रूप में इस्तेमाल करने की अनुमति न देने के चलते भाजपा नीत केंद्र सरकार उनसे नाराज है.

केजरीवाल ने एक संवाददाता सम्मेलन में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर भी हमला किया और कहा कि वह दिल्ली में तीन कृषि कानून ‘‘पारित किए जाने’’ का उनपर आरोप लगाकर ‘‘भाजपा की भाषा’’ बोल रहे हैं.

आप सरकार ने पिछले सप्ताह दिल्ली पुलिस को शहर के स्टेडियमों को अस्थायी जेल में परिवर्तित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया था.

केजरीवाल ने कहा, ‘‘इस वजह से भाजपा शासित केंद्र मुझसे नाराज है.’’ उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री पर ‘‘गंदी राजनीति’’ करने का आरोप लगाया और कहा कि वह उनपर झूठे इल्जाम लगा रहे हैं.

केजरीवाल ने कहा, ‘‘कैप्टन साहब क्या आप मेरे खिलाफ आरोप लगा रहे हैं और भाजपा की भाषा बोल रहे हैं. क्या आपके परिवार के सदस्यों पर ईडी के मामलों का दबाव है और नोटिस भेजे जा रहे हैं?’’

उन्होंने कहा कि तीनों कृषि कानून राष्ट्रपति के हस्ताक्षर से देशभर में लागू हुए और राज्य सरकार उन्हें नहीं रोक सकती.

दिल्ली सरकार ने तीन में से एक कानून को अधिसूचित किया है.

केजरीवाल ने कहा, ‘‘पंजाब के मुख्यमंत्री ने मुझ पर तीन काले कानून पारित करने का आरोप लगाया है. वह संकट के इस समय में ऐसी घटिया राजनीति कैसे कर सकते हैं.’’

उन्होंने कहा, ‘‘अमरिंदर सिंह के पास कृषि कानूनों को रोकने के कई अवसर थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया.’’

केजरीवाल ने केंद्र से किसानों की सभी मांगें तत्काल पूरी करने और उनकी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी देने की अपील की.