कांग्रेस ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रदेश की सरकारी नौकरियां स्थानीय लोगों के लिए आरक्षित किए जाने की घोषणा और बेरोजगारी से जुड़े आंकड़ों को लेकर गुरुवार को मुख्यमंत्री और भाजपा पर निशाना साधते हुए सवाल किया कि जब नौकरियां ही नहीं हैं तो फिर आरक्षण किस चीज में दिया जाएगा.

पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने यह दावा भी किया कि मौजूदा सरकार की नीतियों के कारण देश की अर्थव्यवस्था की स्थिति पूरी तरह चरमरा गई है.

चौहान के हालिया बयान का हवाला देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री यह बताएं कि नौकरियों में आरक्षण से देश को क्या मिलने वाला है? जब आपके पास नौकरियां हैं ही नहीं, तो आरक्षण किस चीज़ में देंगे? ’ उन्होंने यह सवाल भी किया, ‘‘भाजपा और सरकार हमें यह बताए कि नौकरियां कहां से आएंगी, रोजगार कहां से आएगा?’’

गौरतलब है कि चौहान ने गत 18 अगस्त को कहा था कि ‘मध्यप्रदेश में शासकीय नौकरियां अब सिर्फ मध्य प्रदेश के बच्‍चों को ही दी जाएंगी. इसके लिए आवश्यक क़ानूनी प्रावधान किया जा रहा है. प्रदेश के संसाधनों पर प्रदेश के बच्‍चों का पहला अधिकार है.’

वेतनभागी वर्ग से जुड़े लोगों की नौकरियां जाने के दावे वाली एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए सिंघवी ने कहा, ‘‘वेतनभोगी वर्ग जो अपनी आय पर निर्भर होता है, उसकी नौकरियों में जबरदस्त गिरावट आई है.

आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल तक लगभग 1.45 करोड़ वेतनभोगी लोगों ने रोजगार गंवा दिए थे. वो आंकड़ा अब 1.9 करोड़ हो गया है.’’ कांग्रेस नेता ने सवाल किया, ‘‘माननीय प्रधानमंत्री जी रोजगार के बारे में क्यों नहीं बोलते?’’