कांग्रेस विधायक राजेन्द्र गुढा ने रविवार को आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार को अस्थिर करने के लिए विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोपों में गिरफ्तार किए गए संजय जैन ने उनसे करीब आठ महीने पहले सम्पर्क कर उनकी मुलाकात पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और अन्य भाजपा नेताओं से करवाने को कहा था.

गुढा ने रविवार को यहां संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाया, ‘‘भाजपा का यह गेम प्लान कई दिनों से चल रहा था. आठ महीने पहले वह (जैन) मेरे पास आए थे और मुझे वसुंधरा राजे और अन्य भाजपा नेताओं से मिलने को कह रहे थे. उनके मध्यस्था करने वाले लोग सक्रिय थे लेकिन वो अपने प्रयासों में सफल नहीं हुए.’’

गुढा ने दावा किया कि जैन ने उन्हें राजे से नई दिल्ली में और उसके बाद जयपुर में मिलने को कहा था. गुढा ने कहा कि भाजपा सदन में शक्ति परीक्षण की मांग नहीं कर रही है क्योंकि वो जानते है कि हम बहुमत में है.

राजस्थान में कांग्रेस के पास स्पष्ट बहुमत: पार्टी

कांग्रेस ने रविवार को कहा कि राजस्थान विधानसभा में पार्टी के पास स्पष्ट बहुमत है. पार्टी के बागी विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष द्वारा भेजे गए अयोग्य करार देने संबंधी नोटिस को चुनौती दी है और राजस्थान उच्च न्यायालय में सोमवार को उनकी याचिकाओं पर सुनवाई होनी है.

कांग्रेस के सूत्रों ने विधानसभा सत्र बुलाए जाने की संभावना से इनकार नहीं किया. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि इसके बारे में फैसला करने का राज्य मंत्रिमंडल तथा मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है और ‘‘वे उचित फैसला लेंगे.’’

सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस विधानसभा का सत्र बुलाने पर विचार कर रही है ताकि सचिन पायलट के नेतृत्व वाले बागी विधायकों के खेमे के सामने केवल यही विकल्प रहे कि या तो वे सरकार के पक्ष में मतदान करें अथवा उन्हें अयोग्य करार दे दिया जाए.