नयी दिल्ली, 26 मई (भाषा) भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) ने बुधवार को केंद्र सरकार से कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों को नवोदय विद्यालयों में प्रवेश दिलवाने का अनुरोध किया।

साथ ही कहा कि ऐसे बच्चों को नौकरी मिलने तक यह सुविधा दी जाए।

केंद्रीय महिला एवं बाल कल्याण मंत्री स्मृति ईरानी ने राज्यों से मिली रिपोर्ट का हवाला देते हुए मंगलवार को कहा था कि गत एक अप्रैल से 577 बच्चे कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर में अपने माता-पिता के निधन के कारण अनाथ हो गए।

उन्होंने इस बात पर जोर भी दिया कि सरकार कोविड के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले हर बच्चे के संरक्षण एवं सहयोग के लिए प्रतिबद्ध है।

इससे पहले, राष्ट्रीय बाल अधिकारी संरक्षण आयोग और मंत्रालय दोनों ने ही ऐसे अनाथ बच्चों को अवैध तरीके से गोद लेने के विरूद्ध चेतावनी दी थी जो कोविड-19 के कारण अपने माता-पिता को खो चुके हैं।

माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने ट्वीट किया, ‘‘ केवल घोषणा करने और अवैध तरीके से गोद लेने के खिलाफ चेतावनी देने से ही बात नहीं बनेगी।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ भारत सरकार को ऐसे बच्चों की देखभाल करनी चाहिए और इन्हें सरकार के बोर्डिंग स्कूल नवोदय विद्यालयों में दाखिला देना चाहिए। साथ ही इन्हें रोजगार मिलने और सामान्य जीवन व्यतीत करने में समर्थ होने तक यहीं रखना चाहिए।’’