माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने बृहस्पतिवार को पश्चिम बंगाल की तृणमूल कांग्रेस पर वाम कार्यकर्ताओं के खिलाफ ‘‘सख्त रुख’’ अपनाने का आरोप लगाया. वाम मोर्चा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मध्य कोलकाता के एस्प्लेनेड क्षेत्र में बृहस्पतिवार दोपहर में पुलिस के साथ झड़प हुई क्योंकि कार्यकर्ताओं ने रोजगार की मांग को लेकर राज्य के सचिवालय ‘नबान्न’ तक के अपने मार्च के रास्ते में लगे बैरिकेड को तोड़ने की कोशिश की. इसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू-गैस के गोले भी छोड़े. इसमें कई कार्यकर्ताओं के साथ ही पुलिस को भी चोटें आयीं.

ये भी पढ़ें: लोकसभा में बोले राहुल गांधी- किसान एक इंच पीछे नहीं हटेगा, आपको हटा देगा

येचुरी ने ट्विटर पर एक तस्वीर साझा की जिसमें एक महिला और पुरुष, पुलिस द्वारा किए जा रहे लाठीचार्ज से बचने का प्रयास करते दिखे. उन्होंने कहा, ‘‘बंगाल के युवा का इरादा पक्का है. सख्ती से निपटने की रणनीति उन्हें पीछे नहीं धकेल सकती. यह तस्वीर हजारों शब्द कह रही है. विरोध और तेज होगा.’’

वाम मोर्चा के अध्यक्ष बिमान बोस ने पुलिसिया कार्रवाई के विरोध में शुक्रवार को सुबह 6 बजे से 12 घंटे के पश्चिम बंगाल बंद की घोषणा की. वाम मोर्चे अध्यक्ष ने दावा किया कि पुलिस की कार्रवाई में नौकरियों और बेहतर शिक्षा सुविधाओं की मांग को लेकर 'नबान्न अभियान' में शामिल वाममोर्चा और कांग्रेस के 150 से अधिक छात्र, युवक एवं युवतियां घायल हुए.

यह भी पढ़ें- 'क्यों हम सड़कों पर उतर आए हैं?', किसान आंदोलन के समर्थन में सोनाक्षी सिन्हा ने पढ़ी भावुक कविता