अरब सागर क्षेत्र में उठे चक्रवात 'तौकते'(Cyclone Tauktae) 'बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान' में बदल गया है और वह गुजरात तट की ओर बढ़ रहा है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने बताया, इसके उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने और 17 (मई) की शाम तक गुजरात तट पर पहुंचने की बहुत संभावना है और यह 18 मई को तड़के पोरबंदर और (भावनगर जिले में) महुवा के बीच से राज्य के तट को पार करेगा.

यह भी पढ़ेंः सफर में जाने से पहले देख लें Indian Railways की कैंसिल ट्रेनों की लिस्ट

पीटीआई के मुताबिक, आईएमडी ने कहा कि उसने गुजरात तथा दमन एवं दीव के लिए येलो अलर्ट जारी किया है. IMD के चक्रवात चेतावनी प्रभाग के मुताबिक, 18 मई तक हवा की गति 150-160 किलोमीटर प्रति घंटे तक बढ़ने के आसार हैं जबकि कुछ वक्त के लिए हवा की गति 175 किलोमीटर प्रति घंटे तक भी पहुंच सकती हैं.

यह भी पढ़ेंः यूपी सरकार राशनकार्ड धारकों को देगी मुफ्त राशन, प्रवासी मजदूरों को 1000 रुपये

आईएमडी ने बताया कि दक्षिण महाराष्ट्र-गोवा तथा इससे सटे हुए कर्नाटक के तटों पर हवा की गति 70-80 से लेकर 90 किलोमीटर प्रतिघंटे तक हो सकती है और 16 मई को उत्तर महाराष्ट्र के तटों के पास हवा की गति 40-50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है.

उसने बताया कि वायु की गति महाराष्ट्र के तट पर 17 मई से 18 मई की सुबह तक 65-75 किलोमीटर से लेकर 85 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है.

यह भी पढ़ेंः Black Fungus को लेकर बोले AIIMS डायरेक्टर, हवा-मिट्टी और खाने में भी होते है इसके बीजाणु

उत्तर पूर्वी अरब सागर और गुजरात तट पर (पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, अमरेली) तथा अपतटीय इलाकों पर हवा की रफ्तार 150-160 से 175 किलोमीटर प्रति घंटे हो सकती है तथा 18 मई को तड़के देवभूमि, द्वारका, जामनगर और भावनगर जिलों में हवा की रफ्तार 120-150 से लेकर 165 किलोमीटर प्रतिघंटे हो सकती है.

IMD ने कहा कि जूनागढ़ में समुद्र में करीब तीन मीटर ऊंची लहरें उठ सकती हैं जबकि तूफान के तट के टकराने के दौरान दीव, गिर सोमनाथ, अमरेली, भरूच, भावनगर, अहमदाबाद, आणंद और सूरत में एक-2.5 मीटर ऊंची लहरें उठ सकती हैं तथा इलाकों में पानी भर सकता है.

यह भी पढ़ेंः CLAT 2021 की परीक्षा स्थगित, आवेदन की अंतिम तारीख अब 15 जून