वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान डैरेन सैमी ने कुछ समय पहले आरोप लगाया था कि इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलते हुए उन्हें नस्लीय टिप्पणी का सामना करना पड़ा था. उन्होंने बताया था कि उन्हें 'कालू' कहा गया था, जिसका मतलब उन्हें अब समझ आया है. सैमी ने ये भी कहा कि सनराइजर्स हैदराबाद के उनके साथी थिसारा परेरा ने भी आईपीएल में नस्लभेदी टिप्णियां झेली हैं. 25 मई को अमेरिका में अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस कस्टडी में हत्या पर दुनियाभर में विरोध प्रदर्शन देखने को मिले. 46 वर्षीय फ्लॉयड की एक पुलिसकर्मी ने कार्रवाई के दौरान घुटने से गर्दन दबा दी थी, जिसके चलते

हालांकि सैमी ने बाद में बताया कि उन्हें इस नाम से पुकारने वाले सनराइजर्स के एक खिलाड़ी ने फोन पर बात की और उन्हें ये भरोसा दिलाया कि उन्होंने प्यार से ऐसा कहा था. सैमी ने इस बात की जानकारी ट्विटर पर देते हुए कहा कि मैंने मेरे भाई की इस बात पर विश्वास कर लिया. हमने यह फैसला किया है कि नकारात्मक रहने की बजाए इस मसले पर लोगों को जागरुक करेंगे.

सैमी ने मामले का जिक्र करते हुए इंस्टाग्राम पर लिखा था, "मुझे अभी मालूम चला 'कालू' का क्या मतलब होता है. जब मैं आईपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलता था तब लोग मुझे और परेरा को इस नाम से बुलाते थे. मुझे तब लगता था इसका मतलब 'स्ट्रांग ब्लैक मैन' होता है. इसे जानकर मैं बहुत गुस्से में हूं."

सैमी ने ये भी कहा था कि आईपीएल में प्रशंसक अक्सर अपनी सीमाओं का उल्लंघन करते हैं. स्टेडियम में कुछ लोग तो गालियां भी देते हैं. सैमी पहले ऐसे क्रिकेट खिलाड़ी थे, जिन्होंने फ्लॉयड के पक्ष में नस्लवाद के खिलाफ सोशल मीडिया पर लिखा था. वह पहले ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने लिखा था- ब्लैक लाइव्स मैटर।

सैमी ने वेस्टइंडीज के लिए 38 टेस्ट, 126 ODI और 68 टी20 मुकाबले खेले हैं. उनकी कप्तानी में वेस्टइंडीज ने दो बार टी20 वर्ल्ड कप खिताब जीता है.