दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में शुक्रवार को हुई फायरिंग की घटना में गैंगस्टर जितेंद्र मान 'गोगी' समेत 4 लोगों की मौत हो गई. तीन हमलावरों को पुलिस ने जवाबी कार्रवाई में मार गिराया. दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल का कहना है कि हमलावर रोहिणी कोर्ट में वकीलों की पोशाक में आये थे.

डीसीपी रोहिणी ने कहा, "पुलिस द्वारा सुनवाई के लिए दिल्ली के रोहिणी कोर्ट लाए जाने पर हमलावरों ने गैंगस्टर जितेंद्र मान 'गोगी' पर गोलियां चला दीं. जवाबी कार्रवाई में दो हमलावर मारे गए. गोगी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है."

हालांकि अस्पताल ले जाते वक्त गैंगस्टर जितेंद्र मान 'गोगी' की मौत हो गई. साथ ही तीन हमलवार भी पुलिस कार्रवाई में मारे गए. 

असम: 'अवैध अतिक्रमण' हटाने गई पुलिस की फायरिंग में दो की मौत, मचा बवाल

दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने कहा, "जब उसे (रोहिणी) कोर्ट में सुनवाई के लिए ले जाया गया तो दो अपराधियों ने गैंगस्टर (जितेंद्र मान) 'गोगी' पर गोलियां चला दीं. जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने दोनों हमलावरों को ढेर कर दिया. उनमें से एक पर 50,000 रुपये का इनाम था." 

जितेंद्र उर्फ़ गोगी को दो साल पहले ही स्पेशल सेल ने गुरुग्राम से गिरफ्तार किया था. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के मुताबिक, जितेंद्र गोगी ने अपराध के जरिए अकूत संपत्ति कमाई थी. जितेंद्र गोगी के नेटवर्क में 50 से ज्यादा लोग हैं. गौरतलब है कि जितेंद्र गोगी को साल 2020 में गुरुग्राम से गिरफ्तार किया गया था. गोगी के साथ कुलदीप फज्जा को भी पकड़ा गया था. कुलदीप फज्जा बाद में 25 मार्च को कस्टडी से फरार हो गया था. फज्जा जीटीबी अस्पताल से फरार हुआ था जिसके बाद उसका एनकाउंटर हुआ.

सेंसेक्स पहली बार 60 हजार के पार, 31 साल में तय किया 1000 से यहां तक का मुकाम