हिंदू धर्म में त्योहारों की कोई कमी नहीं है, और हर पर्व का अपना अलग ही महत्व होता है. दिवाली के बाद जो एकादशी होती है उसे ही देवोत्थान या देवउठान एकादशी कहते हैं. इस दिन लोग गंगाघाट पर स्नान करके पूजा-पाठ करते हैं. आज भी श्रद्धालु प्रसिद्ध घाटों में स्नान करके इस खास दिन को मना रहे हैं लेकिन यहां हम आपको वाराणसी घाट का दृश्य दिखा रहे हैं.

ANI के मुताबिक, उत्तर प्रदेशम में कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी व देव उत्थान एकादशी के अवसर पर श्रद्धालु वाराणसी में गंगा नदी में स्नान करते हुए. एक श्रद्धालु ने बताया, "आज के दिन लोग स्नान आदि कर दान-पुण्य का काम करते हैं और अपने घरों में तुलसी विवाह करते हैं."

कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही देवोत्थान एकादशी या देवउठान एकादशी या 'प्रबोधिनी एकादशी' कहते हैं. इस खास दिन को ही तुलसी विवाह का प्रचलन है और लोग तुलसी के पौधे की पूजा करते हैं.