नए कृषि कानूनों को लेकर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को आरोप लगाया कि ये कानून केवल बड़े उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए लाए गए हैं.

पढ़ें- कृषि कानूनों पर किसानों का विरोध क्यों? सरकार ने दिया साफ जवाब, प्वाइंट्स में समझें पूरा मामला

‘भारत बंद’ के दौरान सिंह की अगुवाई में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शहर के छावनी क्षेत्र स्थित संयोगितागंज अनाज मंडी में नये कृषि कानूनों पर विरोध जताते हुए केंद्र सरकार और भाजपा के खिलाफ नारे लगाए. प्रदर्शनकारियों ने कहा, "काले कानून वापस लो, किसानों की समस्याएं हल करो."

पढ़ें-भारत बंद को लेकर कंगना रनौत ने किया ट्वीट, लिखा, 'चलो आज यह क़िस्सा ही ख़त्म करते हैं'

इस मौके पर सिंह ने कहा, "नोटबन्दी और जीएसटी लाने के बाद अब मोदी सरकार ने केवल बड़े-बड़े लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए कृषि क्षेत्र के काले कानून पेश किए हैं. इनके खिलाफ किसानों के साथ ही कृषि उपज मंडियों के हम्माल और तुलावटी सड़क पर हैं."

राज्यसभा सांसद ने मोदी सरकार से नए कृषि कानूनों को तत्काल वापस लेने की मांग करते हुए कहा, "यह अमीर और गरीब की लड़ाई है." उन्होंने यह मांग भी की कि प्रधानमंत्री सर्वदलीय संसदीय समिति बनाकर किसानों के मसले सुलझाएं. सिंह ने मंडी परिसर में किसानों, हम्मालों और तुलावटियों से नये कृषि कानूनों को लेकर चर्चा भी की. कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर अनाज मंडी में पर्याप्त तादाद में पुलिस बल की तैनाती की गई थी.