बिहार के दरभंगा जिले में स्थित राज्य का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल दरभंगा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (DMCH) बदहाल है. कोरोना महामारी के दौर में अगर अस्पताल बदहाल दिखे तो साफ है कि वहां के मरीजों की स्थिति जिंदगी और मौत से लड़ते हुए ही होगी. हालांकि ये पहली बार नहीं है कि DMCH पानी में डूबा हुआ दिख रहा है.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली में 7 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, शर्तों के साथ दो चीजों में मिली छूट

बिहार में जिस तरह हर साल बाढ़ आते हैं उसी तरह से DMCH में भी हर साल बारिश का पानी भरता है. बड़ी बात ये है कि अभी तो मानसून आया भी नहीं है. ये बदहाली तूफान 'यास' की वजह से लगातार हो रही बारिश से हुई है.

करीब दो-तीन दिन की बारिश में ही DMCH की बदहाली की सारी तस्वीर सामने आ गई है. DMCH अस्पताल में पानी भरने से मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

यह भी पढ़ेंः बाबा रामदेव के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन, 1 जून को डॉक्टर मनाएंगे 'काला दिवस'

यह भी पढ़ेंः PM की घोषणा, कोरोना से अनाथ बच्चों को पीएम केयर्स फंड से मिलेगी सहायता

एक शख्स ने यहां समाचार एजेंसी ANI को बताया कि, 'हमें यहां देखने के लिए कोई नहीं आया. यहां पर हर चीज़ की दिक्कत है. हमसे पैसे भी लिए जा रहे हैं. बगैर पैसे के यहां पर कोई काम नहीं कर रहा है.'

यह भी पढ़ेंः पुलवामा हमले में शहीद मेजर विभूति की पत्नी निकिता Indian Army में बनी लेफ्टिनेंट

वहीं, वार्ड में मरीजों के बेड के नीचे पानी भरा पड़ा है. लेकिन ANI के मुताबिक, डीएमसीएच के सुप्रिटेंडेंट का कहना है कि, डीएमसीएच नर्सिंग कॉलेज के कोविड वार्ड में कोई जलभराव नहीं हैं. जलभराव केवल मेडिसिन वार्ड में हैं जिसे बाद में हटा दिया गया था.

यह भी पढ़ेंः कौन है शिल्पा और रवीना के पति? एक ही शख्स से मिला था दोनों को प्यार में धोखा

यह भी पढ़ेंः Yuvika Chaudhary की बढ़ी मुश्किलें, हो सकती है गिरफ्तारी