नयी दिल्ली, 28 अप्रैल (भाषा) रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को कहा कि पीएम केयर्स फंड से धनराशि आवंटित होने के तीन महीने के अंदर रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) 500 चिकित्सकीय ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करेगा।

मंत्री ने ट्वीट किया ,‘‘ उड़ान के समय हल्के लड़ाकू विमान पर ऑक्सीजन उत्पादन के लिए डीआरडीओ द्वारा विकसित की गयी चिकित्सकीय ऑक्सीजन संयंत्र (एमओपी) प्रौद्योगिकी से अब कोविड-19 के मरीजों से जुड़े वर्तमान ऑक्सीजन संकट का मुकाबला करने में मदद मिलेगी। ’’

भारत कोरोना वायरस के लगातार तेजी से बढ़ते मामलों से जूझ रहा है और कई राज्यों में चिकित्सकीय ऑक्सीजन एवं बिस्तरों की कमी के चलते अस्पताल भारी दबाव से गुजर रहे हैं।

डीआरडीओ ने एक बयान में कहा है कि एमओपी प्रौद्योगिकी बेंगलुरू के टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स लिमिटेड और कोयंबटूर के ट्राइडेंट न्यूमैटिक्स को पहले ही अंतरित कर दी गयी है और वे 380 संयंत्र लगाएंगे।

उसने कहा कि इसके अलावा प्रति मिनट 500 लीटर उत्पादन क्षमता के 120 संयंत्र, भारतीय पेट्रोलियम संस्थान , देहरादून के साथ मिलकर काम करने वाले उद्योग लगायेंगे।

उसने कहा कि डीआरडीओ का एमओपी प्रति मिनट 1000 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन करता है।

डीआरडीओ ने कहा, ‘‘ यह प्रणाली पांच लीटर प्रति मिनट की प्रवाह दर से 190 मरीजों की जरूरतें पूरी करती है और रोजना 195 सिलेंडरों का पुनर्भरण करती है।’’