नयी दिल्ली, 28 अप्रैल (भाषा) तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने वर्तमान विधानसभा चुनावों के दौरान मतगणना एजेंटों के लिये कोविड दिशानिर्देशों को लेकर जारी निर्वाचन आयोग की हालिया अधिसूचना को “बिना सोचे समझे” उठाया गया कदम करार दिया और आदेश में कई विरोधाभासों को इंगित किया।

आदेश में, निर्वाचन आयोग ने निर्देश दिया है कि मतगणना कक्ष में प्रवेश से पहले चुनाव एजेंट, मतगणना एजेंट और/या उम्मीदवार को कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट जमा करनी होगी।

टीएमसी ने निर्वाचन आयोग को लिखे एक पत्र में कहा, “हालांकि निगेटिव रिपोर्ट पेश करने के लिये दिये गए समय में कहा गया है कि मतगणना शुरू होने के 48 घंटे के अंदर ऐसा करना है, जिसका प्रभावी रूप से मतलब हुआ चार मई 2021 तक। कृपया अपनी मंशा साफ कीजिए।”

पत्र में यह भी कहा गया है कि निर्वाचन आयोग ने उम्मीदवारों से 29 मई की शाम पांच बचे तक मतगणना एजेंटों के नाम की सूची सौंपने को कहा है, निर्देश के मुताबिक, “रिपोर्ट में पॉजिटिव पाए जाने की स्थिति में” ऐसे मतगणना एजेंट को बदलने का प्रावधान है।

पार्टी ने कहा, “दूसरे शब्दों में, निर्देशों के मुताबिक जिस मतगणना एजेंट का नाम दिया गया है अगर वह कोविड संक्रमित पाया जाता है तो ऐसी स्थिति में कृपया स्पष्ट करें कि प्रक्रिया क्या होगी और ऐसे मतगणना एजेंट को बदलने की समय सीमा क्या होगी।”

टीएमसी ने पत्र में कहा, “हम आपका आह्वान करते हैं कि कृपया उपरोक्त चिंताओं का तत्काल निराकरण करें और चीजों को स्पष्ट करें।”

निर्वाचन आयोग ने दो मई को होने वाली मतगणना के लिये बुधवार को अपने नवीनतम दिशानिर्देश में कहा कि उम्मीदवार या उनके एजेंटो को कोरोना वायरस नहीं होने संबंधी रिपोर्ट या कोविड-19 टीकों की दोनों खुराक लगी होने संबंधी रिपोर्ट के बिना मतगणना कक्ष में जाने नहीं दिया जाएगा।

भाषा

प्रशांत उमा

उमा